कागद राजस्थानी

गुरुवार, 1 नवंबर 2012

पांच दूहा भिस्टवाड़ै रा


==============
अन्ना बापड़ो ऐकलो , भिस्टड़ा है अणथाग ।
लाम्पो लेय लगाय दे, जनता आं रै आग ।1।
कुरसी बैठ कूड़ कथै, कुरसी छूट्यां सांच ।
कुरसी आं री खोसल्यो, साल न देवो पांच ।2।
करै दलाली   निसरमा,   जीत परा चुणाव ।
मूंघा  बेचै  कोयला ,   जेबां  घालै  भाव ।3।
राम  रुखाळो  देस  रो,  काटै  नेता  कान ।

जनता बैठी गूंग में, किंयां बचसी स्यान ।4।
सांची  मानो  बातड़ी,  नेता  जी  रा  बोल ।
जनहित में जे जीमग्या, खोलो मत ना पोल ।5।

घेसळो

भागी ल्याओ ऊंदरी
सांकळ लिँधी बांध
थाणेदार रै
चढ्यो बुखार
पटवारी नै बुलाओ रै
मास्टर री
बदळी करावां!

घेसळो

दिल्ली में
गाज्या बादळ
छांट पड़ी गुजरात
टाबरो
टीवी लगाओ रे
भैँस री
धार काढां!

बुधवार, 31 अक्तूबर 2012

घेसळो

काको ल्यायो काकड़ी
काकी खा गी आम
काके ठोकी
डांग री
पीँपै रो
खुलग्यो ढक्कण
भाईड़ो दर्जी बुलाओ रे
गन्नै रो रस काढां!

[कागद]

[कागद]

<>*<> डांखळो<>*<>


चांद माथै जास्यूं   बोल्यो    तनियो   खाती ।
धरती लागै म्हनै अजकाळै जबरी घणीँ ताती ॥
                   लुगाई बोली टळो
                   चांद नै क्यूं तळो
टूट्योड़ै मांचलियै रै पै'ली लगाओ कनीँ पात्ती॥

रविवार, 28 अक्तूबर 2012

सरदी री कुचरणीं


1.
सरदी बोली
गरमी थूं बिगाड़ दी
भो मिनखां री
मिनख कर दिया
अधनागा
ना छोड्या पूरा पूर
ना चैरै माथै नूर
परसेवै सूं हळाडोब
मिनख फिरै गाणीमाणीं
घड़ी-घड़ीं मांगै पाणीं
म्हैं आई हूं तो
मिनखां में ज्यान आई है
अब मिनख खावै
गूंद मेथी रा जमावणां
छोड दिया
रोज-रोज रा न्हांवणां
चा पीवै अर सीरो खावै
ऐडी सूं चोटी पैरै गाभा
गूदड़ बिछावै सिरख ओढै
फेर दस बजे तांईं पोढै !

गरमी बोली

रैवण दे ऐ बरफां जाई
देख्योड़ी है थांरी चतराई
थंन्नै देखतां ई
मिनख नै धूजणीं छूटै
नास्यां में सेडा घुटै
काम छोड खावण ढूकै
गूदड़ां पड़्यो हाथ सेकै
मिनख हो जावै पळगोड
बुद्धि हो जावै सुन्न
आखै दिन ढक्यां भोड
म्हैं आय'र परसेवो काढ
उण री चरबी उतारूं
नित हंपाड़ो कराय
मिनख नै मिनख बणाऊं
प्याऊ खुला
पुन्न करवाऊं
म्हारै बिन्यां मिनख री
कोई गत कोनीं ।

सिर पग री कुचरणीं


सिर बोल्यो
थे तो दो-दो होय'र भी
भोत निरभागी हो रे पगां
थे नीचै फिरो
कादै में टिको
थे चावै राजा रा हो
चावै रंक रा
थांन्नै जूता मिला
म्हैं ऊंचो रैऊं
कादै में नीं टिकूं
मिनख री सगळी बुद्धि
म्हारी गुद्दी में रैवै
मिनख परणीजै तो
म्हारै ई मोड़ बंधै
राजा तो
म्हारै माथै सोनै रो
मुकट बांधता
गांधी अर सुभाष
म्हारै ऊपर ई
टोपी पैरता
फैसन करणियां
म्हारै माथै सैम्पू
भांत-भांत रा तेल
जैल अर करीम लगावै
कांगसिया फेर फेर
घड़ी-घड़ी पटा बावै ।

पग बोल्या

जावण दे ऐ भोडकी
म्हे जाणां
थांरी कित्ती-स्यान है
मिनख री बुद्धि
थांरी गुद्दी में होवै जद ई
मिनख री गुद्दी में
म्हारा खल्ला पड़ै
बुद्धि फिरै तो
झटका ई थांरै लागै
जुल्म मिनख करै
इन्याम थारै माथै होवै
घमंड में थूं ई सूजै
म्हे मिनख नै फिर-फिर
दुनियां दिखावां
म्हारो तो घर में
फेरो ई भलो
थांरी पाग भी
म्हारै माथै राखीजै
थांरी इज्जत सारु लोग
म्हारै हाथ लगावै
बावळा , थूं खुद नै
किंयां लूंठो बतावै !

दांत-जीभ री कुचरणीं


दांत बोल्या
थूं मा राड़ री
चटोरी बळै जीभड़ली
थंन्नै तो माल-मलीदा भावै
थूं आखै दिन
चपर चपर करै
थूं चालै तो भायां में
करवा देवै राड़

म्हे राखां थांरै आडी बाड़
पण लोगां नै गाळ काढ
थूं तो लुक जावै
पण मार म्हे खावां
थूं म्हांनै ई तुड़वा देवै
थंनै चीणां भावै तो
म्हे ई चाबां
थूं तो पोला-पोला गटकावै
म्हे मिर्च चाबां
पण बळत थांरै लागै
म्हे नीं होवां तो
नाक ठोडी रै चिप जावै
फेर तो सेडो सीधो
थांरै माथै आवै
मिनख रै हांस्यां म्हे ई दिखां
म्हे ई हां मुंडै री ओप !

जीभ बोली

घणीं हुंस्यारी ना करो
राखसिया राछ दांतां
थे खारो-खाटो चाब
म्हारै आगै ई धरो
थांरै कारण ई
म्हांन्नै बळणों पड़ै
बोलूं तो म्हैं हूं
थे पण चौधर रा भूखा
आगै आय दिखो
इणी खातर टूटो मरो
थे चांचड़ा-फूसड़ा फंसा दूखो तो
म्हैं ई फिर फिर काढूं
म्हारै ताण ई राम रटीजै
म्हैं तो एक ई हूं
थे बत्तीस अनै बत्तीस लखणां
थे ई हो जका
खावण रा और
अर
दीखण रा और होवो !

आंख-कान री कुचरणीं


आंख बोली
थे तो जाबक मोथा
डोफ्फा हो कानड़ां
थांन्नै तो कोई कतरल्यो
कीं देखो न भाळो
बात सुणो अर टोरो
थे चुगल्यां सुणो
जिण माथै मिनख लड़ै
थे तो घर बिगाड़ू हो
थांरै माथै
कोई बिसवास नीं करै
म्हैं चतर सुजान हूं
हरेक चीज देखूं
फेर बताऊं
म्हारी देख्योड़ी
कदै ई झूठ नीं होवै !

कान बोल्या

जावण दे ऐ
सांच री देबी
थांरै में तो कोई भी
धूड़ न्हाख सकै
थांरै आगै पड़दा आवै
थांरै माथै चसमा चढै तो
मिनख कूड़ो आंकड़ै
थूं है जद ई तो
मिनख नै रोवणों पड़ै
म्हे कान मिनख री स्यान
म्हारै माथै जूं रैंगै
लेखक अर बोपारी
म्हां माथै ई पैन टांगै
बिरामण अर पंडा
म्हां माथै जिनोई टांग्यां बिन्यां
मूत नीं सकै
टाबरां नै बिलमावण सारु
म्हारै में ई
कानिया मानिया करीजै
और बात तो छोडो
देखो थे
पण
चसमै रो भार
म्हांनै ई ढोवणों पड़ै !

हाथ-पग री कुचरणीं


हाथ बोल्या
म्हे तो माल में जावां
थे कादै में जाओ पगां
कदै ई गोबर टिको
कदै ई भोभर में
आदमी री जद चालै नीं
तो बो थांन्नै ई पटकै
थे आदमी नै
टिकण नीं देवो
ठोड़-ठोड़ रुळाओ
थारा ई फेरा
आच्छा माड़ा बजै
म्हे आदमी रै मुंडै
आच्छी आच्छी चीजां घालां
मुंडो धोवां-पूंछां
नुहावण सूं लेय'र
सगळा अंग साफ करां
मिनख रा आंसू पूंछां
खाज करां
माच्छर माखी उडावां
सरत लगावां
रिपिया गिणां
ताळी बजावां
भगवान आगै जुड़ां
म्हांनै जोड़-जोड़
आदमी ठाह नीं कित्ता
काम काढ़ लेवै
भाग रेख भी म्हारै खन्नै
म्हे ई हथलेवो करावां
म्हारै बिन्यां तो मिनख
कोई काम नीं कर सकै !

पग बोल्या

थे तो सूगला
जाबक निसरमा हो हाथां
सगळा खोटा कामां में
थे ई होवो
थांरो डोळ दुनियां जाणैं
थे मंडो तो
मिनख मंगतो बणै
सगळी कूटा- मारी
समूळी हिंसा थे करो
थाप में थे
डुक-मुक्कै-रैपट में थे
चोरी-चकारी थांरा काम
रिस्पत थे झालो
नेतावां खातर
घोटाला थे करो
कादो-गंद-मळ-मूत
थे ई धोवो
सूगलै अंगां माथै
थे ई ढूको
थे जचै जकै रै आंगळी
जचै जकै रै खाज करो
म्हे मिनख रो भार ढोवां
तीरथ करावां
दुनियां घुमावां-दिखावां
मार पड़ै जद मिनख नै
भाग-भाग बचावां
म्हारै बिन्यां
मिनख नै ढोई कोनीं
म्हारै जिसो हेताळू
मिनख रो कोई कोनीं !

[][] जनम दिन रा पांच डांखळा [][]

ऐक ई दिन जाम्या दोनूं हिटलर अर ओमियों ।
कटगी रांद हिटलर री,ईं रै होवै नी निमोनियों ।
                   सगळा देवै बधायां
                   भाई होवै या बायां
ओ तो जीवंतो ई बणग्यो फ़ेसबुक रो भोमियों ॥
[२]
म्हैं बोल्यो,  मैडम जनम दिन है म्हारो आज ।
मैडम बोली तो के बिड़लो जाम्यो है महाराज ।
           झांझरकै ई    क्यूं करो झोड़
           घणां ई जामै इस्सा भम्पोड़
थे जामग्या तो     काईं गधै नै होयगी खाज ॥
[३]
टाबर बोल्या   पापा रो बरथ डे है काटो केक ।
बज़ार सूं ल्यावां अभी रिपिया देवो हज़ार ऐक ॥
                     मैडम बोली झट
                      चुप्प गूंगी लट
हज़ार में तो इसा पापलिया आवै नूआं -अनेक ॥
[४]
 म्हैं बोल्यो मैडम आज थोडो़ काम धंधो रोक ।
चाल पै’ली गंठजोडै़ सूं लगावां बाबैजी रै धोक ।
                  जनम दिन है ऐ म्हारो
                   आज्या के बिगडै़ थारो
बा बोली,आज तो लारो छोड अणखांवणीं जौंक ॥
[५]
थारी उमर होगी     साठ में कम पांच ।
आज भी केक खातर चालै थारी चांच ।
           निकळग्यो थारो टैम
           जुवानी रो राखो बैम
केक छोडो अर डागधर सूं कराओ जांच ॥

बात बात में बात

एक डेडर परवार कूऐ मेँ रैँ'वतो।
डेडर रै न्हानियै ऐकर हाथी देख्यो।
बापू नै बतायो-बापू,बापू !
हाथ पसार'र बोल्यो- म्हैँ इत्तो बड्डो जिनावर देख्यो।
डेडर बोल्यो,जा रै डोफा ! म्हां सूं बड्डो ई कदै'ई कोई होया करै!
 नीँ बापू,बो तो हो ! डेडर सरीर फुलायो'र बोल्यो-इत्तो ?
नां !
और फुला'र-इत्तो ?
नां !
टाबरियो मान्यो कोनीँ।
डेडरियो फूलतो-फूलतो फाटग्यो पण टाबरियै बात नीँ मानीँ !

[] घडी़ []


घडी़

पडी-पडी़


घडी-घडी़


करै

टिक-टिक !
पण
कुण टिकै !

टिकै बो ई है


जको


घडी़-घडी़

धिकै

अर


धिकै बो ई है


जको


घडी़-घडी़

बिकै !

अर

धिकै ई बो ई है
जको
घडी़-घडी़ सिक्कै !

घडी़ रो काम है


चालणौ


बगत बातावणौ


जे कोई मान्नै


तो वा भला


नीं मान्नै


तो व्वा भला !


घडी़ तो


बगै

पडी़-पडी़

बगत ऊंचायां


घडी़-घडी़ !

*सरदी रा सात दूहा *


मा बणावै लूपरियो, सागै सूंठी चाय ।
गूदड़ ओढ्यां गटकल्यां, डाडा आवै दाय ।1।
धंवर धारी धूजणी , खोटी खावै खाल ।
मा औढावै गूदड़ा , ढाबै सगळी चाल ।2।
ताती ताती मूंफळी , भेल खावां मिठाण ।
रातां काढां आंख सूं , आवै नीं ओसाण ।3।
तिल सकरिया'र पापड़ी, घेवर फीणी दूध ।
मायड़ हाथां खायगै , गूदड़ लेवां रूध ।4।
काचर मूळा भेळगै , साग बणावै माय ।
बाजर आळा रोट में, गुड़ घी आवै दाय ।5।
गुड़ री रांधै राबड़ी , थाळी मेँ दै घाल ।
सातूं सुख जाओ आंतरा , छोडां स्सै सुआल ।6।
सरदी आई सांतरी , खायो लागै अंग ।
ओच्छा राख्यां गूदड़ा , होस्यां बेजा तंग ।7।

बुधवार, 24 अक्तूबर 2012

गाडी

ममता भाण
चलाई जोरगी गाडी
उतरग्या कोमरेड
अब उडीको
पांच साल
कुरसी सारु लाडी !

बिरखा

बिरखा अबकै ओसरी, धर हेमाणी भेख ।
जेठै धान निपजसी, इण मेँ मीन न मेख ।।
बड़भागी है मुरधरा, बादळ करिया कोड ।
हरियल गाभा धारसी, काळ भूंडिया छोड ।।

*चिँतया*

()

म्हारै घरआळी
चिँत्या करती बोली
थानै जे
साग नीँ भावै तो
पापड़ तळदयूं !
म्हैँ बोल्यो-
तूं ऊंधा काम
मत करिया कर
म्हनै तो रोज ई तळै
बापड़ै पापड़ नै तो
बख्स दिया कर !

लूआं चाली कोझकी

लूआं चाली कोझकी, मुरधर तपियो ताप ।
बिरखा करदे बादळा, नीँस लागसी पाप ।।
लूआं मारी लूंकड़ी , हिरण तिसाया धाप ।
गांव उंचाळो घालियो , मुरधर घर संताप ।।
लूआं लूंटी जूणती, मुरधर लागी लाय ।
बादळ थारी आसड़ी , बरसै क्यूं नीँ आय ।।
तपै अकासां तावड़ो , मुरधर सिकती जाय ।
बादळ थारी आस मेँ , धोरी मरतो जाय ।।
छांटा कर दे बावळा , कर दे थारो काम ।

धोरी खूब उजाळसी , बादळ थारो नाम ।।

चुप बैठ्यां नै बाळै क्यूं

* पंचलड़ी *
चुप बैठ्यां नै बाळै क्यूं ।
हक री हांती टाळै क्यूं ।।
बैठी मिनक्यां ले ताकड़ी ।
न्याव गूंगा भाळै क्यूं ।।
कुण सुणसी डोफा थांरी ।
बगत आपरो बाळै क्यूं ।।
लोकराज थरप्यो थारो ।
इतरो बै'मो पाळै क्यूं ।।
रोसणियां नै धूळ चटा ।
खुद री पाग उछाळै क्यूं
।।

सोमवार, 22 अक्तूबर 2012

गांधी थारै देश में

गांधी थारै देश में, नेतां घाली राध ।
धाप कमावै नोटड़ा, चोगड़दै अपराध ।।
गांधी थारै देश मेँ,रुळगियो लोकराज ।
नेता होग्या निसरमा, माटी रुळगी लाज ।।
गांधी छपग्यो नोटड़ां , बण्यो नेतां री स्यान ।
अब जे आवै साम्हनै,उणरा खोसै कान ।।
गांधी थारी अहिँसड़ी, खोई खुद री धार ।
धरणै बैठ गरीबड़ा, नित री खावै मार ।।
गांधी थारी समाधी, थरप दी राजघाट ।
दिन मेँ धोकै नेतिया, रातां ठाटमठाट ।।

<>कुचरणीँ<>



*आज़ादी-1*
अंगरेजां रो
मीँगणीं रळा'र
दियोड़ो दूध !
अब
पीओ भाया
कूद-कूद !
*आज़ादी-2*
जद तांईं
आंखां साम्हीँ है
टाबरां री दादी
नीँ मानै भू
खुद री आज़ादी !
*आज़ादी-3*
जद
होगी शादी
फेर
कठै रै'गी
आज़ादी !

* नेता जी *


नेता जी
गऊसाळा पूग्या
ढांढां रै
ठाण सारै जाय'र
बोल्या
परनै हो नीं गावड़ी !

कीँ म्हानै ई
चरण दे डावड़ी!

गा बोली
अरे ओ राखस
क्यूं आयो है
धर नेता रो भेस
म्हारै चारै सूं
किँयां धापैला
जद तूं नीँ धाप्यो
चरगै सारो देस !

रविवार, 21 अक्तूबर 2012

** रिसता **


पै'ली
खून रा
होंवता रिसता
अब
होवै
रिसतां रो खून

दूहा

धरती तपगी सुरजड़ा, कोजी थारी आंच ।
चिड़ी कागला तड़फड़ै,खोलै कीकर चांच ।।
पान फूल सै झुळसिया, गयो मिनखड़ो हार ।
नभ थळ पाणी चूसियो, मुरधर सेवै मार ।।
सीवण बूई फोगड़ा,मुरधर रो सिणगार ।
सगळा नै तू झपटिया, बैठी मनड़ो मार ।।
ऐक बिचारी खेजड़ी, डटी सामने आय ।
मुरधर लागी काळजै,जीया जूण बचाय ।।
बादळ थारो भायलो, मुरधर रो भरतार ।
बेगो नीचै भेजदे, मानांला करतार ।।

[] पै'लो सुख[]


पै'लो सुख
निरोगी काया
इण बात माथै
ऐक जाम और भाया !

दूहा

चोरड़ा चलाक चातर, चोघा घणा हराम ।
नेता म्हारै देस रा,राम बचावै राम ।।
बाबा थारी भोडकी , कियां खायगी भांग ।
नोट कढावै काळिया, कूकर पूरै मांग ।।
चोसठ सालां लूटगै, नेता कूट्या दाम ।
बाबो काढै सैँत मेँ, नेता चेप्या डाम ।।
दिल्ली दिलड़ो देस रो, कुणसो कैवै आज ।
नेता ठोकै डांग री, जान बचाओ भाज ।।
लोकराज रै च्यानणै, आज मच्यो अन्धकार ।
नेता जीमै नोटड़ा,जनता खावै मार ।।

कुचरणीं

=====पै’ली अर अब =====
पै’ली
आदमी ढूंढतो
भगवान नै
अब
भगवान ढूंढै
आदमी नै !

कुचरणीं,

देखो
राज रा खेल
पड़तां ई बोट
दे दियो तेल !
अब
छोडो बसां
पकडो़ रेल !

दूहा

दूहा
====
कुचरणीं तो भायलां ,करसी दो-दो हात ।
खोद कुचरगै काढसी ,साची-सांची बात ।।
आधा बंचग्या आपां ,     आधी रैगी रात ।
बात बात में बातड़ी ,कर न्हाखी परभात ।।


गांधी थांरै देस में, पख-विपख है ऐक ।
दोनूं चावै लूटणों , रामज राखै टेक ।।

*नोरतां खातर-
नोरता बैठ्या धोकस्यां, नो बरतां रै ताण ।
बाकी दिनड़ा तोड़स्या, पेट भूखड़ी ताण ।।

*नोम्यूं माथै-
रावण पाछो आयग्यो, आयो नीं हड़मान ।
राम रुखाळो देसड़ो,     चाकर बेईमान ।।

*दसरावै माथै-
रावण बाळां बापजी, आपां सालो साल ।
भीतर बैठ्यो ना बळै, है नीं बात कमाल ।।

*कांणी दियाळी माथै-
सेठां धनड़ो कमाल्यो, राख ताकड़ी काण ।
लिछमी आई कांणती, भरसी थांरा ठाण ।

* दियाळी माथै-
दीया बाळो तेल रा, मनड़ो राखो साफ ।
कूड़ कमाई छोड द्‌यो, लिछमा करसी माफ ।।

*गोरधन माथै-
गोरधन कथै आप नै , रख गरीब री टेक ।
गोबर पूजो बापजी,काम बतायो नेक ।।

* भैया दूज माथै-
मा जाई है आपरी , मा जाया हो आप ।
यादां राखो साम्भगै , बैनां भाई धाप ।।

दफ्तरी कुचरणीं

दफ्तरी कुचरणीं
===========
1.
मेज बोल्यो
परनै मर ऐ कुरसड़ी
थूं कित्ती लिगती मरै
सारै दिन मुंडो बायां
म्हारै सागै चिप्योड़ी रैवै
म्हारै माथै धर्‌योड़ी
चीजां माथै ल्याळ पटकै
थंन्नै लाज कोनीं आवै
क्यूं नीं परनै जावै ?

कुरसी बोली
जावण दे रे बडाई
डोफ्फा मेजड़ा
म्हारै कारण ई लोगड़ा
थांरै खन्नै आवै
म्हैं थांरै सारै बैठूं
जद ई थारै माथै लुळै
नीं तो बावळा
थांरै माथै छांट ई नीं ढुळै
म्हारै बिन्यां
थंन्नै ऐकलै नै कुण पूछै
थांरी तो कूड़ी बडाई है
दुनियां में सगळै
म्हारै खातर ई लड़ाई है !

2.
घंटी बोली
ओ अकड़ू दरवाजा
म्हारै साम्हीं
थांरी कांई औकात है
म्हैं बाजूं जद ई
थंन्नै खोल
लोगड़ा भीतर आवै
थंन्नै चपड़ासी खोलै
म्हंन्नै अफसर बजावै !

दरवाजो बोल्यो
थूं तो अफसर री चमची है
थंन्नै तो अफसर
आंगळ्यां माथै नचावै
म्हैं बंद रैऊं
कमरै रै भीतर होंवतै
ऊंधै-पाधरै नै ढाबूं
थांरै अफसर री
लाज ढकूं ।

3.
अफसर बोल्यो
दफ्तर म्हारै ताण चालै
म्हारै नांव ई
दफ्तर रो नांव थरपीजै
म्हारै दसकतां ई
फाइल चालै
म्हारै बिन्यां
थां बाबूड़ां नैं
कोई घास नीं घालै !

बाबू बोल्या
देख्योड़ी है
थांरी अफसराई
थांरो काम फगत
फाइल माथै
चिड़िया बैठावणों है
बाकी तो म्हे ई बतावां
आं दसकतां सूं
कांईं अर कित्तो आवणों है
थे तो फेर भी
जोड़ायत रै आ जाओ काबू
म्हे तो कोनीं
राम जी रा भी दाबू !

मिंदर री कुचरणीं

मिंदर री कुचरणीं
============
1.
पुजारी बोल्यो
थूं मकराणैं रो भाठो
घड़ीज'र बणग्यो
मिंदर में देवता
म्हैं पुजाऊं जद
थूं पूजीजै
म्हारै ताण ई

थांरी ध्यावना है
नीं तो थूं देवळ नीं
खाणां रो भाठो ई बजतो ।

देवळ बोली
किणीं री किरपा सूं नीं
भागां ई पूजीजै भाठा
थांरी कांई जाड़ है
जे पुजा सकै तो पुजा
घर-बंगलां में
मकराणै रा आंगणां
आपणैं क्यां री राड़ है ।

2.
देवळ बोली
म्हांरै ताण ई
थांरी पूछ है फूलां
म्हैं जे नीं होंवती तो
थे डाळ्यां ई बळता
थे म्हांरै पगां चढो
जद ई थांरी स्यान है
नींस थांरो कांईं उनमान है ।

फूल बोल्या
जावण दे
भाठा काळजै आळी
थूं आखै दिन ऊभी रैवै
बैठ सकै नीं
चावै तो सो सकै नीं
ना है थां में सौरम
ओ तो म्हे ई
निभावां धरम
म्हांरै बिन्यां थांरी
पूजा हुवै तो बोल
नींस क्यूं देवै डोळ !

3.
भगत बोल्यो
थूं क्यांरो देवता है
फगत लेवता है
म्हैं जीमाऊं जद
थूं जीमै
म्हैं भोग लगाऊं जद
बणै थांरो परसाद
निरो रिसपतखोर है थूं
सोनै-चांदी रा छतर
चढै नगद दाम
सवामणीं पर काढै काम ।

देवता बोल्यो
थांरो चढाओ म्हैं खाऊं
ओ थांरो बैम है
म्हनै बावळा कठै
मुंह खोलण नै टैम है
थे चढाओ अर थे ई खाओ
म्हारै तो फगत नाम लगाओ
म्हैं देवळ पाषाणीं
पेट खोल'र देखल्यो
भीतर ना दाणों है ना पाणीं !

भांडा-बरतण री कुचरणीं

भांडा-बरतण री कुचरणीं
==============
1.
गिलास बोली
सुण रे बावळा
गोळ गट्टूड़ा लोटिया
थंन्नैं लोगड़ा
ऊंडै घड़ै में डुबोवै
थूं गड़-गड़ करै रोवै

पण पिंड नीं छूटै
थंन्नै कुण मुंडै लगावै
थूं जे होवै
बिन्यां पींदै रो
तो दुनिया हांसै
म्हैं पतळी कन्यां सी
म्हंनै सगळा मुंडै लगावै
थांरो पाणीं
म्हारै में रितावै !

लौटो बोल्यो
थांरो सित्यानास जावै
भगतण गिलासड़ी
थूं ढाबां माथै रुळै
दारूड़ियां में रळै
जणैं कणैं रै
होठां लागती फिरै
इण में कांईं बडाई है
थांरै नीं धरम है
नीं कोई सरम
म्हैं पलींडै रो राजा
घड़ां माथै विराजूं
थांरै दांईं
बटाऊंवां में नीं भाजूं !

2.
थाळी बोली
म्हैं सम्पत राखूं
गीगलो होवण री खबर
आखै गांव नै सुणाऊं
थां कटोरी-बाटकी नै
काळजै लगाऊं
पांती आई चीजां
थां सगळां में घलाऊं
पण थे चमचां सागै रळ
सम्पत खिंडाओ
एकली-एकली
दूध-चा गटकाओ !

कटोरी-बाटकी बोली
टाबर जामै कोई
पण छात माथै थूं कूटीजै
म्हारै ताण ई
थंन्नै फलका मिलै
म्हे जे म्हारै में
लगावण नीं साम्भां
तो थांरै खातर
कुण बाजोट ढाळै
म्हारै बिन्यां बावळी
चमचा थंन्नै कद संभाळै !

3.
घिलोड़ी बोली
थूं भोत कुचमादण है
कुलछणीं हटड़ी
लूण-मिरच समेत
खारी-बैड़ी चीजां
काळजै लगाय'र राखै
लोगां रा मुंडा बाळ न्हाखै
आ तो म्हैं हूं जकी
घी-चूंटियो राखूं
थारा दाझ्योड़ा
काळजा ठारूं
नीं तो थंन्नै कुण पूछै !

हटड़ी बोली
म्हैं बैदां री बैद हूं
इणीं खातर
मिनखां री कैद हूं
थूं साम्भै
चीकणीं अळबाद
म्हारै बिन्यां बता
किसो बणै साग सुवाद
म्हारा सांभ्या मसाला
चूल्है चढ़
सुवाद चौगणों करै
थांरो घी तो बावळी
चूल्लो देखतां ई डरै !

भणाई री कुचरणीं

भणाई री कुचरणीं
============
1-

कॉलेज बोल्यो
भोत भूंडो है रे स्कूलड़ा
थारै में ना पूरा माठर
ना पूरा कमरा-ना भींत
टाटपट्यां फाट्योड़ी
सूगला-सेडला टाबर
कीं पैदल

कीं फटफटियां माथै
आंवता-जांवता माठर
म्हारलां रै ठाट है
सगळा सूटेड-बूटेड
कारां माथै बगै
म्हारै पूरो फर्नीचर
वाटर कूलर-पंखा
हीरो-हिरोइन जेड़ा
फूटरा पढेसरी टाबर
ऐश-अभिषेक बराबर !

स्कूल बोल्यो
घणों घमंड ना कर
थारला सगळा
म्हारै हाथां निकळ्या है
जामतां ई कुण सो
हीरो हिरोइन हो
म्हैं सगळां नै जाणूं
सेडो पूंछणों सिखाय
थांरै खन्नै म्हैं ई भेज्या है
कीं पढै अर कीं पढावै
जा रे डोफ्फा कॉलेजड़ा
जामणियां नै भूलग्यो
सरम कोनीं आवै !

2.
पोथी बोली
म्हैं कॉलेज री स्यान
ग्यान रो भंडार
म्हारी माया अपरम्पार
भाषा अर व्याकरण
विग्यान अर गणित
कीं नीं म्हारै सूं बारै
हजारां पेज
मोटी जिल्दां
भार अपार
उठावणियां रै
धरण पड़्यां सरै
मूरख म्हां सूं डरै
पीएचडी आळा ई पढावै !
थूं छोटी सी चौपड़ी
काचर सो कायदो
थंन्नै माठरिया पढावै
टाबरिया नित फाड़'र
झाज बणा बणा उडावै
सगळां नै ध्यान है
कायदां में किसो ग्यान है

कायदो बोल्यो
जा ऐ बडेरण पोथड़ी
थूं तो जाबक ई
सिर सूं न्हाख दी
थंन्नै पढ-पढ'र
कुण पंडत बण्यो है
जा कबीर जी नै बता
म्हंनै तो फगत ओ बता
कायदां बिन्यां
थंन्नै आखर कुण दिया
जिण ग्यान रो थूं
करै है धणियाप
ओ कायदो ई
उण रो है बाप !

3.
प्रोफेसर बोल्यो
म्हैं पी एच डी
ग्यान री पांड
बगत नीं गमाऊं
सारो दिन पढूं
बस दो घंटा पढाऊं
माठरियां सूं घणीं
इज्जत अर तिणखा पाऊं
म्हारा पढायोड़ा
डागधर-कलक्टर बणैं
माठर रो कांईं डोळ
जको म्हारी बराबरी करै
म्हारै आगै
माठरां जिस्या पाणीं भरै

माठर बोल्यो
जावण दे रै प्रोफेसरिया
ग्यान री करड़ावण
थूं तो बावळा
पढ्योड़ा नै पढ़ावै
अणपढ़ थांरै खन्नै
एक नीं आवै
आखर तो म्हे सिखावां
टाबर पढण जोग बणावां
थे तो कोरा
ठाट अर जस लूटो
दो घंटा पढाओ
अर ऊमर भर री कूटो
कीं तो सरम करो
म्हांरा पढायोड़ा
प्रोफेसर अर डीन बणै
पछै म्हां माथै ई तणैं !

डांखळो

डांखळो
=====
पैलवान हूं बोल्यो बामणां रो छोरो ।
जीम्यां पछै ई खा लेऊं खीर रो कटोरो ।
        मिजमान नै आई रीस
         जांवतै नै दी बगसीस
मोटो बणावै रामजी काढण आळो मोरो ।।

डांखळो

डांखळो
******
फेसबुक माथै कविता लिखती चंडी बाई चैंड ।
भोत सराया करतो बापड़ो ऐकलो हसबैंड ।
           भायलां सूं करी अपील
          कमेंट करो बिन्यां ढील
जे अणखांवणां कर दिया तो कर देस्यूं अनफ्रैंड ।

पांच कुचरणीं


1.घाटो
गरीब रै कोनीं
दो टंक आटो
राज करै पूरो
कम्पन्यां रो घाटो
कोई बणै बिडलो
कोई बणै टाटो !

2.फायदो
गरीब रैवै गरीब
अमीर होवै अमीर
राजनीति रो कायदो
अमीर देवै चुणाव में
गरीबी देवै बोटां में
बढ-चढ फायदो !

3.टोल
मोथी-गूंगी जनता रो
राज जाणग्यो डोळ
सड़कां बणाई
अर ठोक दियो टोल !

4.गैस सिलेण्डर
छै सिलेण्डर लेय'र
खूब बणाओ पकोड़ा
खाओ अर करो ऐस
फेर देख्या
आपी बणसी गैस !

5. घोटाला
राजनीति नै घोट-घोट
नेता बणग्या महावीर
घोटै आळा
लंका बाळणीं भूलग्या
घर में चलावै घोटाला !

गुरुवार, 11 अक्तूबर 2012

00 पंचलड़ी 00


छोड दे भूंडी रीत बावळी।
ना पाळ ऊंडी प्रीत बावळी।।
मन री हार हार है जाबक ।
ना समझी तूं जीत बावळी।।
आखी जूणीं रोणोँ मंडसी ।
आज तूं गावै गीत बावळी।।
राधा-कान्हां निभाग्या पैली।
बगत गया बै बीत बावळी।।

दूहा

नानक राम रहीम रा , बंदा देखो आप ।
रोटी खोस गरीब री , कर बैठ्या धणियाप ।।
नेता जीव कुजीव है, कुरसी उण रो राम ।
कुरसी छूट्यां बापजी, होवै काम तमाम ।।
धरम भिड़ावै नेतिया, जातां दै सुळगाय ।
कीँ बोटां रै कारणै, माणस दै मरवाय ।।

बाबा कुणसा घाट है,घाट घाट धणियाप ।
माळा फेरै राम री, रोज कमावै पाप ।।
जनता घालै घाट नीँ, लालच मरती जाय ।
उणनै टेकै बोटड़ा . खाल जको है खाय ।।

बुधवार, 10 अक्तूबर 2012

OOO ओ म्हारो गांव है OOO


ओज्यूं पींपळ री छांव है
मघली-जगली नांव है
बूक हथाळ्यां ठांव है
हां जी, ओ म्हारो गांव है !

जद दिन बिसूंजै
जगै दीया
चांद रै चानणै
टींगर खेलै दडी़ गेडिया ।
बिजळी रै खम्बां
भैंस बंधै
तारां री बणै तण्यां
बिजळी रो खाली नांव है
हां जी, ओ म्हारो गांव है !

करसां बोवै
साऊ खावै
बापू रै नारां रो
गांव में खाली नांव है
बिजळी कड़कै
ठंड पडै़
करसां खसै खेत में
खातां में ज़मींदार रो नांव है
हां जी, ओ म्हारो गांव है !

अंगूठां री नीं सूकी स्याई
मघली जाई
जगली परणाई
मा गैणां रख रिपिया ल्याई
साऊकार री बै’यां में
म्हारी सगळी पीढी रो नांव है
गांव सगळो पड्यो अडाणै
बैंकां रो खाली नांव है
हां जी, ओ म्हारो गांव है !

क-मानै करज़ो
ख-खेतां खसणो
ग=गरीबी
घ-घरहीण
इस्सी बरखडी़
गांव री चौपाळ है
पांच सूं पच्चीस रा टींगर
खेतां-रो’यां चरावै लरडी़
माठर फ़िरै सै’र में
गांव में स्कूल रो खाली नांव है
हां जी, ओ म्हारो गांव है !

अणखावणां-अणभावणां
बणै नेता बोटां रै ताण
ठग ठाकर है म्हारा
गेडी रै ताण
अडाणै री कहाणी कै 
खेत दबाणै री बाणी दै
घेंटी मोस बोट नखावै
जीत परा फ़ेर ढोल बजावै
लोकराज रो खाली नांव है
हां जी, ओ म्हारो गांव है !

अंटी ढील्ली
खेत पाधरो
अंटी काठी
खेत धोरां पर
अळगो-आंतरो
मंतरी री सुपारसां
खेत मिलै सांतरो
खेत-खतोन्यां
हक-हकूतां
ज़मींदार रै हाथ में
गांव बापडो़ फ़िरै गूंग में
चारूं कूंटां पटवारी रो दांव है
हां जी, ओ म्हारो गांव है !

तपै तावड़ो

तपै तावड़ो
लू पड़ै
सड़का होगी राती
बादळ रो नीँ
नांव निसाण
किँयां राखां
करड़ी छाती !
पिछाणां किँयां
खुद री लुगाई
ढक लिया मुंडा
अब राम भजो
पूछता लागां भूंडा !

दूहा

00000
राज चलावै सोनिया, देखै है सरदार ।
मंत्री भूंसै रोब सूं, कोई न जिम्मेदार ।।
मनमोहन थारो राज, कोजो घणो खराब ।
धरमी खावै लाठियां, गुंडा मुंडै आब ।।
चमचा चूसै चासणी,नेता खावै माल ।
जनता कूकै गूंग में, बोलो सतश्रीकाल ।।
गुंडा बैठ्या राज मेँ, पूरा लेवै ठाट ।
जनता मांगै रोटियां, फोड़ण भाजै टाट ।।
कुरसी बैठ्या चोरटा,धर नेता रो भेस ।
नोट कमावै देसड़ै, मेलै जाय विदेस ।।

सांचला दूहा

 [<>]

हेत दिखावै मोकळो , कर कर चोड़ी राफ ।
उण नै घाती मानजो , बात पतै री साफ ।1।
हां जी हां जी बोलगै , जको साम्भै बात ।
ऐक दिन आप देखज्यो , बो ई करसी घात ।2।
भेळै बैठ गोठ करै , सीसी खोलै रोज ।
थारै देसी फींच में, माथै मण्डसी मोज ।3।
काको कैवै कोड सूं , घणो दिखावै हेत ।
बोइज नुगरो आपरो, खोस खायसी खेत ।4।
घर में आवै रोज गो , साथ करावै काम ।
थारी हूणी आयगी , समझो म्हारा राम ।5।
भायला मिलै जोग सूं , दुसमीड़ा अणजोग ।
जरदो खावां कोड सूं , आपी आवै रोग ।6।

बजट रा दूहा

 [<>]

मूंघीवाड़ो खायग्यो , जीवन्तड़ा री चाम ।
रोको थारा टैक्सड़ा , भली करैला राम ।1।
खरची ओछी बापजी , मतज बढ़ाओ दाम ।
सुण्यो बजट जद आपरो , पूठै लाग्यो डा'म ।2।
रोटी ओखी गांव में ,खट खट खोई चाम ।
भाड़ा बधग्या मोकळा , कूकर छोडां गाम ।3।
चुण चुण भेजां आप नै, आप चलाओ राज ।
ऐड़ी ठोको भोड में , आवै कथतां लाज ।4।
माया ममता छोडगै , झालो जन रो हेत ।
बाकी लखणां बापजी , धोळां पड़सी रेत ।5।

पंचलड़ी



मारै कोझा झपीड़ भायला ।
भूंडी उपाड़ै पीड़ भायला ।।
लोकराज धरै अंटी भीतर ।
कांईं गिणै थूं भीड़ भायला।।
भाई भतीजा बणसी राजा ।
लाम्बा भाग लड़ीड़ भायला।
थारै जाया है अमर राजवी।

बाकीस पूरी छीड़ भायला।।
लागगी हाथां राज तळाई ।
लूंट रा कंठा बीड़ भायला ।।

दस फेसबुकिया हाइकू



1.
छूटैलो कियां
बुलावै फेसबुक
अमल नसो ।

2.
करो कमेंट
घणां जचा'र आच्छा
मिलसी पाछा ।

3.

टेको लाइक
संभाळो लाइकड़ा
लेबा री देबा !

4.

फूटरी छोरी
खुलम खुली बातां
बेली मोकळा ।

5.

बताओ आच्छी
थारी भी होसी आच्छी
अट्टै रो सट्टो ।

6.

मैसेज बॉक्स
फेसबुकियो खेत
उगावै इश्क !

7.

मींत री भींत
खुली धरमसाळ
चेपो टैगड़ा ।

8.

पढणी कोनीं
कोई री कविता
धर कमेंट !

9.

ग़ज़ल ई है
आपां जो लिख दी
करो वा वा !

10.

बणग्या कवि
बतावै फेसबुक
टेको कमेंट ।

मा जद तू ही


कठै गया बै दिन
जद मा सारती
आपरे हाथां उपाड़्यो
नीम रो काजळ
म्हारी आंख्यां में ।

कित्तो मोवणों-सावळ
दीखतो बां दिनां दिन
आंख्या में बसता
हेत अर भेळप रा
सतरंगी सुपना
जका देखता म्हे
पड़तख दाईं रात्यूं !

बरस बीतग्या

आंख्यां में नीं ऊतरी
बा सुपनां आळी रात
मा तूं ही जद ई
आंवता सुपना
दिन भी बै ई
जकै दिनां
तूं सारती काजळ
अब तो ऊगै
आंख्या में
अबखायां रा पड़बाळ !

पिंड पाळै मन


काचै पिंड बैठ
पाका सुपना
मत देख मनड़ा !

बगत री फटकार
गुड़कासी पिंड
पिंड भेळा
गुड़कता सुपना
खिंडैला पिंड सूं पैली !

मोह री

काची मटकी
काचो पिंड
काचा सुपना
ऐतबार किण रो
काचा मन
थूं कद साचो ?

पिंड पाळै

मनड़ा थंन्नै
खुद री रुखाळी
जद लदसी खुद
थूं कियां बचसी
पिंड सूं बारै
इणी सारु
जोगी जोग रच
थंन्नै मारै !

कागला पटकै चांच


कागला खावै भुआंळी
मल्टीस्टोरी कोठ्यां माथै
डब्बा बंद आं घरां सूं
कोई नीं झांकै आभै में
कागलो पटकै चांच
सातवैं मालै री
पाणी आळी टंकी माथै-
दिखूं तो दिखूं कियां
कोई प्रीतम प्यारी नै
देऊं तो देऊं कियां
बटाऊआं रो संदेस
ना मंढाओ चावै
सोनै में चांच
ना जीमाओ चावै
घी-खांड रो चूरमो
पण दिखो तो सरी
थे तो भूलग्या
म्हैं तो निभाऊं
म्हारो धरम !

खाटी पंचलड़ी


जाड़ कुळै तो काढ जाड़ नै ।
झाड़ां आळा छोड जुगाड़ नै ।।
पगां में दिखै कांटा चुभता ।
आगै बध अर काट झाड़ नै ।।
राड़ बधावै घर बाड़ जकी।
ऐड़ी भूंडी बाळ बाड़ नै ।।
गेलै खड़्या पग रोप्यां जका ।

जड़ां खोद'र बगा पहाड़ नै ।।
म्याऊं म्याऊं सुणै न कोई ।
लुळसी सारा सुण दहाड़ नै ।।

ठाह ई नीं पड़ी


पाणीं तो
हरमेस ई भरती
गिलास सूं सरु होय
घड़ै तांईं पूगी
मा री पकड़ आंगळी ।

घड़ो ऊंचता-ऊंचांवतां
कूवै री पाळ
ना बो बोल्यो
ना म्हैं बतळायो
ठाह ई नीं पड़ी
कद मांखर
उतरगी प्रीत काळजै
आंख्यां गेलै
अब अंतस ऊकळै
आंख्यां भरीजै पाणीं
घर रै पाणीं
थाम दिया पग !

बकरी चढै चकरी


दूझै तो घाटो
टळै तो घाटो
बांध पाटो
भाग बकरी रा
कियां घड़्या
समदरसी करतार !
होवै बळी
चढ़ै बकरी
थांरै थांन
राखै मान
मेमणां नै टाळ
भरै पेट
पराई जाम रा
पण थूं पूरै
मनस्या मिनख री !

जे बकरी देवै दूध

रळा'र मींगणीं
तो जगती कथै कोथ
बिलोवै थूक
दूध दियो तो दियो
मींगणीं रळा'र !

बकरी डरै

मरै तो भी मरै
खाल रा खल्ला
पगां मिनख रै
आंत री तांत
पींजै रूई
कातै सूत
बांटै अर बजै
ऊत री ऊत !

जींवती रा

कतरीजै बाळ
ढाबै सरदी
जीया जूण री
खुद नै टाळ !

भोळी बकरी

चढै चकरी !

गूंगा-स्याणां


गूंगां रै घर में स्याणां
स्याणां रै घर में गूंगा
लाध सकै
गूंगां बताय'र नीं जामै
तो स्याणां कै'र नीं थमै

आ भी तो हो सकै
गूंगा स्याणां हो जावै
स्याणां हो जावै गूंगा
कुण थामै !

अजकाळै

गूंगा कम
स्याणां पण जादा
गूंग खिंडावै
गूंगा री गूंग
कुण ढकै
स्याणां तो
खुद उघाड़ै-ढकै
आपरी गूंग !

अजकाळै

सगळा स्याणां है
डोढा स्याणां
कागलै री भांत
इणीं खातर
कागला नीं दिखै
सराधां में कागोळ तांईं !

आज

इस्सो आदमी नीं लाधै
जको कदै ई नीं पादै
आज पण आदमी
खुद रो पादो
सुवादो बतावै
दूसरां री बगत
नाक चढावै
खुद स्याणां
अर
दूजां नैं गूंगा बतावै !

म्हे देवता


आज दिनूगै दिनूगै
म्हारी जोड़ायत साथै
नूईं धोती खरीदण माथै
म्हारी राड़ होयगी
बा बोली
म्हैं आजोआज खरीदस्यूं
थांरो डी ए बधग्यो
पूरो सात परसैंट
साड़ी चाहिजै अर्जेंट
म्हैं बोल्यो
घोषणां करतां ईं
सरकार पईसा नीं देवै
धणीं री बात मान्या करै
पति परमेसर होवै !

बा बोली
परमेसर हो तो
पधारो थांरै मिंदर
देवता तो
थांन-मकान ई
फूटरा लागै
देवता बोल्या नीं करै
पात्थर बण ऊभ्या करै
साड़ी दिराओ
थांरै सवा रिपियै रा
पतासा चढास्यां
थांरां भजन गास्यां !

पईसा लपेड़ रै लागै

.

दिल्ली में संसद रै सारै
धोळै दोपारै
सांच बोलतो
म्हारै गांव आळो
नत्थू पकड़ीजग्यो
पछै तो
पुलिस आळां उण री
बा रेल बणाई
कै मत ना पूछो
बीस एक डांग फींच में
गुद्दी में धोळ पर धोळ
लाफ्फै में रैपटा !

रैपटा पड़ता देख

नत्थू बोल्यो
लपेड़ तो ना मारो सा
पुलिस आळो आ सुण
ताचक'र पड़्यो ,बोल्यो-
साला राजस्थानी है
इसकी अंटी खोलो
अंटी में माल मिलेगा
नत्थू बोल्यों
इयां ना करो
पईसा पेड़ रै लागै कांईं
नत्थियै रै इत्तो कैंवतां ई
सिपला लागग्या तड़ातड़
धैं लपेड़-धैं लपेड़ !

आखतै होय

नत्थू अंटी खोल दी
पईसा देय पिंड छुडायो
उण रै बाद सूं आज तांईं
नत्थू बगनै दाईं बरड़ावै
पईसा पेड़ रै नीं
लपेड़ रै लागै !

डांखळो

आज एक डांखळो
===========

छोतियो बोल्यो डर कोनीं लागै आं भूत स्यूं ।
आधी रात नै    म्हैं तो मुसाणां में    मूतस्यूं ।
               भूतिया भेळा होया
              यमराज आगै रोया
मुसाणां नै बचाओ महाराज ऐड़ै ऊत स्यूं ।।

पंचलडी़

इयां ना समझ्या थे डरग्या बै ।
भूखा हा बापड़ा मरग्या बै ।।
आप तो जीमो सा बड़ भीतर ।
साग रोटी बणा'र धरग्या बै ।।

बिजळी आळा कट


हे आ गई
आ गी-आ गी
करतां-करतां
साल काढ दिया च्यार
अब तो सुणलै करतार !

आयगी देखो
अब तो कीं सरदी
सुणल्यो म्हारी
बिजळी आळां बेदरदी
अब तो भलांई
दिन भर आओ ना
पण रात भर जाओ ना !

सै'न नीं होवै थांरा

बिजळी आळा कट
कट सूं तो आछो है
कूटल्यो भलांई
पकड़-पकड़ जट !

डांखळो

  ओ डांखळो बांचो देखाण
  =*=*=*=*=*=*=

बंस नै बधावण खातर होज्या छोरो दोरो सोरो।
मदियो बणावाय'र ल्यायो मोलवी सूं डोरो ।
               छोरो होयो ना छोरी
               जोरु बोली होय दोरी
मरज्याणां कोरै डोरां सूं ई कोनी होवै छोरो ।।

तीन कुचरणीं साग-पात री


(1)
मिरच बोली
कित्तो भभकै है रै थूं
मरज्याणां कांदा
लोगां नै रुआ'र छोडै
इणीं खातर थूं
नित रो रगड़ीजै

कुंडी-घोटां सूं
सिल्ला-लोढै सूं !

कांदो बोल्यो

म्हनै कोई काटै तो
बडै बडां नैं रुआणूं
म्हैं तो
ढक्योड़ो-ढूम्योंड़ो फिरूं
लोग म्हांरा गाभा खोल
हेत सूं बरतै
थूं तो रांड नागी फिरै
अर टाबरां नै कुकाणै
ठाह नीं लोगां रो
कांईं कांईं बाळै !
(2)
भिंडी बोली
थूं कित्तो चालू है रै
कमीण आलूड़ा
जनानो देखै न मरदानो
हरेक सागै
भायला घाल लेवै
बादी रो डूजो ना होवै तो !
आलू बोल्यो
देखी कोनीं थंन्नै
हूर री परी नै
इक्कलखोरड़ी बळै है थूं
थांरै साथै कुण रळै
थांरै अंग अंग में सेडो है
इणी खातर रांड
थूं ऐकली बळै !
(3)
काचर बोल्यो
जा ऐ टींढसी
थूं तो ऐकली ई जामीं
ऐकली ई मरसी !
देख म्हारो सुवाद
जग सूं न्यारो है
म्हारी चटणीं
म्हारी काचरी सिरै है
गुवार फळी सूं
म्हारा भायला नामी है !

टींढसी बोली

जावण दे रै काचरड़ा
थांरी चतराई देख्योड़ी है
इत्तो क्यूं दहाड़ै है
थांरो एक बीज
नो मण दूध फाड़ै है
म्हारा फोफळिया
खोपरां नै लारै बैठावै
म्हनै तो लोग काची खावै
थूं काचो होवै तो
कुण हाथ लगावै ?

घरू कुचरण्यां


1.
छात बोली
करावड़ण में क्यूं
ऊभी हो भींतड़्यां
साळ में बैठ्या लोगड़ा
थांरी ओट नीं
म्हांरी छींयां बैठ्या है
म्हारै बिन्यां साळ

साळ नी बजै !

भींतड़्यां बोली

बोली रै कुचमादण
थांरों कांईं डोळ
जकी म्हारै बिन्यां टिकै
म्हारै बिन्या तो रांड
थूं एक पळ नीं धिकै
म्हे सिरकां तो
थूं नीचै आ पड़ै
थूं हालै-चौवै तो
थांरै नीचै कुण बड़ै ?
2.
दरवाजो बोल्यो
म्हारै ताण ई
घर री सोभा है
म्हारै बिन्यां
थांरै में गधा ई नीं मूतै
थंन्नै कुत्ता ई नीं पूछै
आकड़खोरा आंगणां !

आंगणों बोल्यो

घणीं सेखी ना बघार
थूं घर रै बारै रैवै
म्हैं रैऊं भीतर
म्हन्नै काळजै लगावै घर
म्हारै माथै
भला मिनख बैठै
थांरै माथै गंडक मूतै
अर मंगता ऊभै !
3.
अलमारी बोली
जा रे डोफा आळा
थूं सारै दिन
मुंडो बायां बैठ्यो रैवै
पण थांरै में घर आळा
कोई कीमिया चीज
नीं धरै
जे धरै तो काळी धार मरै !
आळो बोल्यो
घणीं गर-फर ना कर
थांरो-म्हारो कांईं मेळ
थांरै भीतर तो
लुकत री चीजां धरीजै
अर ताळा जड़ीजै
थांरै भीतर रांड
निरो अंधारो है
म्हैं दिवला साम्भूं
समूळै घर में चानणों करूं !

फ़ळ-फ़्रूट री कुचरणीं


1.
सेव बोल्यो
जा रे डोफ्फा मतीरिया
थंन्नै कुण खावै
थूं तो मोथो है
भीतर सूं थोथो है
बीजां री पांड न्यारी
मत कर

फळां में बैठण री हुंस्यारी !
म्हैं मीठो फळ
लोग म्हनै कोड सूं खावै
बीमार खावै तो
निरोग हो जावै !

मतीरो बोल्यो

जावण दे रै सेवड़ा
थांरै मुंडै बडाई नीं जंचै
थंन्नै खायां पछै बावळा
खावणियैं रै कीं नीं बंचै
म्हारा बीज
काजू-बिदाम री गरज पाळै
इण सारु आगै खातर
लोग म्हारा बीज टाळै !

2.

केळो बोल्यो
जा ऐ रांड काकड़ी
थूं तो तुलै ताकड़ी
थांरी कोईं गिणत नीं
म्हे तो गिण-गिण बिकां
थूं तो चक्कू सूं कटै
म्हानै तो लोगड़ा
हेत सूं छोल-छोल गिटै !

काकड़ी बोली

जा रे बिन्यां बीज रा डूजा
एक इळायची थारो
पाणीं बाणा देवै
म्हैं मुरधर री लाडकंवरी
मुरधर छोड जाऊं नीं
इण खातर चक्कू चालै !

3.


अंगूरियां सू

बोरिया बोल्या
थे तो पोल्ला बळो
मुंडै में जांवतां ई
थांन्नै मौत आवै !

म्हे कांटां में पळां

फेर भी नीं बळां
सेव री गरज पाळां
टाबर म्हारै सूं
भोत राजी रैवै
म्हांनै बागड़ रो
मेवो कैवै !

अंगूरिया बोल्या

दूजां खातर मरणों
म्हारो धरम है
थे तो लाडी बेसरम हो
थांरै पेट में काठ है
थांन्नै खावण में
क्यां रा ठाट है !

नींद री कुचरणीं


1.
बिछावणों बोल्यो
सुण कुळछणीं नींद
म्हारै बिन्यां
थूं किणीं नै भी
आ नीं सकै
म्हे बिछां जद ई
थूं बावड़ै

नीं तो थूं कद
मिनखां नै नावड़ै !

नींद बोली

खुद रौ घणों नादीद
मत ना कर दब्बूड़ा
थंन्नै तो धाप्योड़ा लौग
मस्ती में खूंदै
म्हैं आंख्या फिरूं जद
कोई थां गूदड़ां रै नीं अड़ै
लोगड़ा कांकरां में ई
मूंदै माथै पड़ै !

2.

नींद बोली
म्हैं आऊं जद ई
थे आओ
नीं तो थां सुपनां नै
कठै ठोड़ ?

सुपना बोल्या

थूं आवै जद ई तो
म्हे झूठा पड़ां नुगरी
इणी खातर लोग
म्हानै खुली आंख्यां देखै
लोग थांरो डोळ जाणैं
बै मान्नै
खुली आंख्यां आया
सुपना फळै
नींद आळा टळै !

3.

नींद बोली
देख रे गूंगा जीवड़ा
म्हारा खटका
म्हैं आऊं तो
थन्नैं चैन आवै
नीं तौ
थूं कद सुस्तावै ?

जीव बोल्यो

जावण दे ऐ बावळी टाट
थांरै भरौसै चैन नीं
चैन रै भरोसै थूं आवै
चैन नी होवै तो थूं
मिनख रै नेड़ै नीं फटकै
पूरी रात पड़ी रांड
आंख्यां में लटकै !

सोमवार, 24 सितंबर 2012

पांच पंचलडी़ [गज़ल ]


 
 
 
 
 
 
टैम कुजरबो आग्यो

टैम कुजरबो आग्यो काका ।
आम आकड़ां लाग्यो काका ।।
खेत धरम रै राखस ऊग्या ।।
कूड़ करम कुण बा'ग्यो काका ।।
भजन राम रा गावण आयो ।
घर में हरजस गाग्यो काका ।।
दिल्ली पूग्यो नेता आपणों ।
हक समूळा पचाग्यो काका ।।
मरो-क जीयो मरजी थारी ।
देस अजाद बताग्यो काका ।।
*
कोझा मारै झपीड़


कोझा मारै झपीड़ भायला ।
उपाड़ै भूंडी पीड़ भायला ।।
लोकराज धरै  भीतर अंटी।
कांईं गिणै थूं भीड़ भायला।।
भाई भतीजा बणसी राजा ।
लाम्बा भाग लड़ीड़ भायला।
थारै जाया है अमर राजवी।
बाकीस पूरी छीड़ भायला।।
हाथां लागगी  राज तळाई ।
लूंट रा कंठा बीड़ भायला ।।
*
सांची बात
सांची बात खारी लागै ।
कूड़ी बात प्यारी लागै ।1।
साच नै ओ बतावै कूड़ ।


माणस सरकारी लागै।2।
घाल कोठी ठाठ करै अब ।
पूरी खाल उतारी लागै ।3।
जनता रोवै भूखी तिस्सी।
आं नै आ हुंस्यारी लागै ।4।
नेता  घरां   नेता  जामै ।
जनता अब बिचारी लागै ।5।

*
प्रीत रा बाण
करी क्यूं देर आवण मेँ ।

आग लागगी सावण मेँ |1



बादळ   आय   भेई देह ।

आयो आनन्द गावण में ।2।



जगी आस थे आवोला ।

लागी काग उडावण मेँ ।3।

धन थारो घर मेँ खूटै ।

कांईं सार कमावण में ।4।


हाथां प्रीत लाग्या बाण ।

कांईँ सार लुकावण मेँ ।5।

*

जाग भायला

जाग सकै तो जाग भायला ।
नीँ-स लगा दे आग भायला । 
कथ मनड़ै  री   बेगो बेगो ।
क्यां भी काढै राग भायला ।
 
मत उछाळ आज  माथै राख।
नीचै  पड़गी   पाग  भायला । 
घुसग्या गोदा आंख्या सांमीं।
क्यूं लुटवावै बाग भायला । 
लाम्पो लेय लगावण चालां ।
बूजा है   अणथाग भायला।
*


रूंखड़ा
 
जड़ां छोड्या पिराण रूंखड़ा।
ऊभ्यो किणरै ताण रूंखड़ा।।
तूं तिरसायो कळपी धरती। 
 आभै में घमसाण रूंखड़ा ।।
छीँयां सटै आज पंछीड़ा ।
भूल्या मीठो गाण रूंखड़ा ।। 
थारा पान खोय बायरियो ।
रुळग्यो राणोराण रूंखड़ा ।।
बरसां थारै बांध राखड़ी ।
बळगी बेलां भाण रूंखड़ा ।।

सोमवार, 16 जुलाई 2012

दूहा

घर रो दूधज डेरियां , टाबर टोपो नाय ।
कंजूसां रै राज में , छाछ मांग कै ल्याय ।।

पावणां रा दूहा

*पावणां रा दूहा *
 
पावणां है-क पीवणां ?

घर में आया पावणां, मीठा बोलै बोल ।
घर सूं बारै जांवतां,भूंडा पीटै ढोल ।।

घर रा खावै राबड़ी, पावणियां रै आम ।
माथो कूटां बापजी ,कद जावैला गाम ।।
कांदा काट्या कामणीं , सीरो पूड़ी साग ।
थाळी धरगै सामनै ,ढाबै मन री आग ।।
 जीम जूठगै पावणां , पापड़ मांगै और ।
राम बरोबर पावणां , चालै कांईं जोर ।।
 आईसक्रीम ठोकली , पावणां भूंडै हाल ।
गुलफी खाई टाबरां , राफां करली लाल ।
 जीम्यां पाछै पावणां , किरचो मांगै नाप ।
घर म्हारै आय जाणै ,धरग्यो बां रो बाप ।।

अमूंझण्यां

*पांच अमूंझण्यां*
1.
दिल रो मरीज
लोगां नै कैवै
मुझे आप कहो
दिलावर प्लीज !
2.
घरै कोनीं
चीकणैं रो छांटो
नाम मक्कण राख
हो रैयो हैं आंटो !
3.
नाम धर दियो
मायतां धनजी
पल्लै कोनीं
बापड़ै रै
एक पंजी !
4.
नाम तो है शेर
पण ऊंदरै नै देख
मूत करतो
नीं लगावै देर !
5.
नाम राख सुंदर
हो रैयो है टेडो
नासां में बगै
लप लप सेडो !

अमूंझण्यां

* पंदरै अमूंझण्यां*
1.
घर आळा
दूधनाथ-दूधनाथ करै
पण भाई रै
मुंडै विस झरै !
2.
गुरुपाल रै
गुस्सो फूट्यो
बण गुरूजी नै
जम'र कूट्यो !
3.
पवन नाम रो छोरो
चालै भोत ई दोरो !
4.
भाइड़ो सिकन्दर
तीन साल सूं
बैठ्यो है अन्दर !
5.
नांव लक्ष्मीनाथ
पण करजो
सेळा-सोळा हाथ !
6.
देखो भूपति
जूं जित्ती कोनीं
पल्लै सम्पत्ति !
7.
घर आळा
जकै रो नांव
अमरसिंघ धरग्या
बै तो तीन साल पैली
जुखाम सूं मरग्या !
8.
घर में आयगी
जबरी क्रांति
जद सूं
रोळा करण लागी
घरआळी शांति !
9.
बीनणी आई शीला
बण गाळां काढ-काढ
घरआळां नै कर दिया
राबड़ी जिस्सा ढीला !
9.
आपणों पड़ोसी है प्रेम
पण
नफ़रत है उण रो नेम !
10.
खुद रो नांव
बतावै उनमान चांद रो
काच में देखै जणां
लागै एकदम बांदरो !
11
नांव तो रामस्वरूप
पण काम
रावण रै अनुरूप !
12.
सेठ धनपत
करजै में लथपथ !
13.
लुगाई सूं
कुटीजतो आयो है
खुद रो नांव पण
शक्तिसिंध बतायो है !
14.
मीठू कैयां मुळकै
पण मुंडै सूं
जैर ई जैर ढुळकै !
15.
आच्छी करी
छोरै धर्मराज
ब्या खातर
धर्म ई
बदळ लियो आज !

अमूंझण्यां

*तीन अमूंझण्यां*
1.
उण
दिल तो दे दियो
लुगाई नै
फेर भी
सांस आवै
उण भाई नै !
2.
झूठ रो
कांईं घाटो
पिसावै कणक
अर
बतावै आटो !
3.
गांव जावै
बैठ'र बस
घर आळां नै
फोन करै
बेगो कियां आऊं
म्हैं हूं बेबस !
 
* पांच अमूंझण्यां *
1.
ऊतिया तो
काम ई ऊत करै
आपरै ई घर री
लारली भींत माथै
मूत करै !
2.
खुद नै
समझदार बतावै
आप चालै
पण
सड़क नै
जांवती बतावै !
3.
आपरो डोळ
आप ई गमावै
खुद चालै
खुद पूगै
गांव पूग परा
गांव आग्यो बतावै !
4.
आप रा गुण
आप ई गावै
फिक्कै फल्लर पाणीं नै
मीठो बतावै !
5.
भाठै री देवळ
कीं नीं खावै
फेर भी
खुद रै गिटण खातर
पुजारी अर लोगड़ा
माल मलिदा चढावै !

अमूंझण्यां

*तीन अमूंझण्यां*
1.
उण
दिल तो दे दियो
लुगाई नै
फेर भी
सांस आवै
उण भाई नै !
2.
झूठ रो
कांईं घाटो
पिसावै कणक
अर
बतावै आटो !
3.
गांव जावै
बैठ'र बस
घर आळां नै
फोन करै
बेगो कियां आऊं
म्हैं हूं बेबस !
 
* पांच अमूंझण्यां *
1.
ऊतिया तो
काम ई ऊत करै
आपरै ई घर री
लारली भींत माथै
मूत करै !
2.
खुद नै
समझदार बतावै
आप चालै
पण
सड़क नै
जांवती बतावै !
3.
आपरो डोळ
आप ई गमावै
खुद चालै
खुद पूगै
गांव पूग परा
गांव आग्यो बतावै !
4.
आप रा गुण
आप ई गावै
फिक्कै फल्लर पाणीं नै
मीठो बतावै !
5.
भाठै री देवळ
कीं नीं खावै
फेर भी
खुद रै गिटण खातर
पुजारी अर लोगड़ा
माल मलिदा चढावै !

कुचरणीं

पांच मानसूनी कुचरणीं
============

1.
*बादळ*

बादळ कांईं करै
आभै अर धरा पर
कोनीं हरी सब्जी
इण खातर
बादळां रै
होयगी कब्जी !
2.
*मानसून*

मौसम नै
होवणो हो मानसून
पण गळती सूं
ऊंधो होग्यो
होग्यो सुनमान !
3.
*बिरखा*

बिरखा परदेसण
करै नखरा-
तपती धरती
तोवै उनमान
छांट पड़तां ई
लागै छमको
बिरखा कैवै
डर लगता है
इसका हमको !
4.
*बादळ*

गोरा-चिट्टा बादळ
फिरंगी सा फूटरा
आया अर उडग्या
लेयगी सोतण हवा
हाळ उडीके धण धरा
पातळिया पिव नै
विजोगण मरुधरा !
5.
*छांट*

ठाह नीं
कांईं हैं आंट
बळतां माथै ई
नीं पड़ै छांट !

दूहा

बिरखा रा पांच दूहा
============

बरस झमाझम बादळी , आल्ला करदे ताल ।
तप-तप बैरी सुरजियो , भूंडी खावै खाल ।1।
*
बादळ मुरधर भेजदे , सुणलै थूं करतार ।
बिरखा होयां जीवस्यां ,जूण पड़ी मझधार ।2।
*
कूलर-पंखा फैल है , सूरज आगै राम ।
बिरखा आयां पांगरै,बळती माणस चाम ।3।
*
भीतर ठारै राबड़ी , बारै लागी लाय ।
काया होवै ठारकी,बिरखा दे बरसाय ।4।
*
बादळ थारी धण धरा, क्यूं राखी बिलगाय ।
पूत हरियल जामसी ,लगा काळजै आय ।5।

हाइकू

पांच हाइकुड़ा बकरी रा
============

1.
करली प्रीत
जाणै पाळी बकरी
करी हलाल !
2.
चाल बकरी
नहावण नै चालां
हो लेवां गोरा !
3.
भेड-बकरी
जात न्यारी, है भेळी
सीख मिनख !
4.
चढी बकरी
देव-मिनख राजी
मर्‌या भोळा ई !
5.
गमी बकरी
लाधगी मेळै में
काटो बकरी !

कुचरणीं

.  डाई री कुचरणीं
=€=€=€=€=€=€=

1.
जद ताईं
मिलै बजार में
भांत-भांत री डाई
बूढो नीं होवै
कोई मरद-लुगाई !
2.
पातळियै भरतार
लुक लुका'र
सिर में लगाई
डाई बेअंत
पण गोडां में
कोनी आयो
जाबक ई तंत !
3.
मरवण बोली
सुन्नी पड़ी है
सावण में
म्हारी सेज
थे किन्नैं फिरो
डाई सेंट लगा
तेजम तेज
म्हारै काळजै
बैठ सुधारो
खुद री इमेज !
4.
जोड़ायत बोली
कुलछणै भरतार सूं
बाळ धोळा
दिल पण काळो
इण नै डाई लगा
इकसार तो
करो बाळो !
5.
डाई लगाय बाळ
कर लिया काळा
बुड्ढै बाबो जी
आंख पण दे दियो
गेलै बगतां धोखो
और रै भरोसै
छेड़ बैठ्या
आपरी जोड़ायत नै
बण जद धोयो चोखो
बोल्या
बात है बठै ई
दाबो जी !
Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...
इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.