कागद राजस्थानी

बुधवार, 30 मई 2012

कुचरणीं

देखो रे लोगो
========

दारु रो सोखीन हो
झिमली रो धणी
फूंफलो फंडो
नित री
ऐक सीसी सिरकावंतो
टळतो कोनीं
संडो होवै या मंडो
धणी लुगाई में होयगी
ईं बात पर राड़
झिमली मारयो डंडो
बो कूदग्यो डरतो बाड़
झिमली काढ़ी गाळ
मरयो कोनीं
साळो कुत्तो रंडो !

बो अरड़ायो
देखो रै लोगो
आ आप तो मरै कोनीं
म्हारै मारै डंडो
थे ई बताओ स्याणों
ईयां तो आ ई होसी रांड
म्हैं कियां होस्यूं रंडो !

दस कुचरणीं

बस दस कुचरणीं
===========

1. गुल्फी

ठस्योड़ै पाणीं में
फस्योड़ो घोच्चो !

2. जोड़ायत

टीवी बिना खटकै
देखै नीं बो लटकै !

3. शराब

बारै पड़ी - पड़ी बिकै
मांय गयोड़ी नीं टिकै !

4. ब्यांव

बैठ्या सूत्यां रै अळबाद
पैली लुगाइ पछै औळाद

5. भगवान

घड़ीजै भाठां
चढावै री ठाठां !

6.पुजारी

मिंदर में बजावै घंटी
चोखा जिमावै अंटी !

7. अखबार

रोज रो छप छप आवै
होळी दियाळी सुस्तावै !

8.मास्टर

टाबरां साम्हीं अरड़ावै
लुगाई साम्हीं बरड़ावै !

9. घड़ी

बापड़ी रोज कैवै टिक टिक
के मजाल कोई जावै टिक !

10.

कुरसी में है जबरो जादू
इण रै आगै रिस्ता बादू!

दूहा-राबडी़ रा दूहा

सुख पांती रा भायला , मतै मिलैला आय ।
अणपांती रै लोभ में, माथो मती निवाय ।।
राबडी़ रा दूहा 
थळी पुगावै बाजरी , मोठ भेजै भण्डाण ।
बीका म्होबी पीसदै , राबड़ रांधो आण ।1।
मगरा थारी राबड़ी , मांगै देख भंडाण ।
थळी में चढ्यो चावलो, मुरधर नीं ओसाण ।2।
मगरै रांधी राबड़ी, लुकतो भाजै भाण ।
धोरी मारै सबड़का , सुरगां में घमसाण ।3।
डोवै आळी राबड़ी , भीतर न्हाना प्याज ।
जीरो छोडै मैकड़ी , छाछ बधावै लाज ।4।
थाळी भर गटकायली , गया झूम्पड़ै पोड ।
काल सुवारै जागसी , नींदां चढगी कोड ।5।
राब खीचड़ी प्याजिया , छाछ धपटवां साथ ।
गरमी भाजै आंतरी , सुरजी जोड़ै हाथ ।6।

स्व. गौरव पुरोहित री दो राजस्थानी कवितावां

म्हारै सुरगवासी बेटै गौरव पुरोहित री 
दो  राजस्थानी कवितावां । 
5 फरवरी 2005 नै 21 वर्ष री उमर  में 
बो तो गयो परो पण छोडग्यो कीं इण भांत यादां :-
*म्हे टाबर*
म्हे जद
हा टाबर
मायत म्हांनै
कैंवता काच्चर !

बडा होया तो
बाई चिड़कली
म्हैं बळद !

कित्ती सोरफ दी
मायतां बाई नै
एक दिन
बाई सारु
आग्या पांख
बाई उडगी फुर्र
बैठगी दूजी डाळी !

म्हे बळद
हाल बळद
घर में करां थड़ी
मायत ढूंढै
म्हांरै पगां सारु
पराया दावणां !
*करज*
हाल बिसांईं है
कई दिनां री
हाल चुकावणीं
करजी है
कई जणां री
पण
आया है जका
जासी एक दिन ।

दांत है जित्तै
जीमस्यां
डील है जित्तै
पचास्यां म्है भी
अन्न-जळ
ऐ भी करजा ई है
चूकै या चढै
ठाह नीं पण किणीं नै !

रविवार, 20 मई 2012

हंसोकड़ी बात

 हम्बै
म्हैँ एक छोरै नै कैयोः 
राजस्थानी मेँ लिख्या करो ! 
तो बण भच्च देणीँ सी लिख्यो--हम्बै !
म्हैँ कैयो-ओ कांईँ है ?
छोरो बोल्यो-राजस्थानी !
म्हैँ बोल्यो-हम्बै !
छोरो फेर बोल्यो- हम्बै कांईँ ? ओ तो हम्बै ई है !
तीजै पूछ्यो-ओ कांईं ? हम्बै-हम्बै ?
म्है बोल्यो-राजस्थानी !
तो तीजो बोल्यो-हम्बै ! 
जे आ ई राजस्थानी है तो म्हैँ ई लिख सकूं !
म्हैँ बोल्यो-हम्बै ! तो लिख्या कर फेर !
बो बोल्यै-हम्बै !

राजस्थान दिवस


राजस्थान-दिवस बधायजै
  [] श्री ओम पुरोहित कागद
(राजस्थान दिवस माथै ओ खास लेख)



राजस्थान री थापणा हुई बो दिन हो तीस मार्च-1949। राजस्थान नांव पच्छम रा इतिहासार 'कर्नन जेम्स टाड' 1829 में दियो। इण सूं पैली इण रो नाम राजपूताना हो। ओ नांव जार्ज थामस सन 1800 में दियो। राजपूतानै में 26 रियासतां ही। आं नै भेळ'र भारत में मिलावण री पैली चेस्टा 31 दिसम्बर, 1945 में पंडित जवाहरलाल नेहरू करी। बां उदयपुर में राजपूताना सभा बणाई। दूजी चेस्टा उदयपुर रा राजा भूपालसिंह अर बीकानेर नरेश सार्दुलसिंघजी करी। पैला गृहमत्री सरदार पटेल चौथी चेस्टा में इण राजपूतानै नै भारत संघ में रळायो। आज रै राजस्थान रै एकठ री बी सात चेस्टावां होई। पैली चेस्टा 18 मार्च, 1948 में अलवर, भरतपुर, धौलपुर, करौली नै भेळण री। नांव थरप्यो- मत्सय संघ। इणरी राजधानी बणी अलवर। राजप्रमुख बण्या धौलपुर नरेश उदयभान सिंघ। प्रधानमत्री बण्यां शोभाराम कुमावत। दूजी चेस्टा 25 मार्च, 1948 में हुई। मत्सय संघ में कोटा, बूंदी, झालावाड़, बांसवाड़ा, कुशलगढ, शाहपुरा, प्रतापगढ, किशनगढ, टोंक अर डूंगरपुर नै भेळ'र राजस्थान संघ बणायो। इणरी राजधानी कोटा। कोटा रा महाराज भीमसिंह राजप्रमुख। गोकळदास असावा प्रधानमंत्री। तीजी चेस्टा18 अप्रेल, 1948 में होई। इण बार उदयपुर राजस्थान संघ में भिळ्यो। उदयपुर रा महाराजा भूपालसिंह राजप्रमुख। माणिक्य लाल वर्मा बण्या प्रधानमंत्री। चौथी चेस्टा 30 मार्च, 1949 में। इण बार बण्यो बृहद राजस्थान। इण बार रियासतां भिळी बीकानेर, जयपुर, जैसलमेर अर जोधपुर। राजप्रमुख बण्या महाराजा भूपालसिंह। उप राजप्रमुख कोटा महाराव भीमसिंह। हीरालाल शास्त्री बण्या प्रधानमंत्री। पांचवी चेस्टा 15 मई, 1949 में होई। अबकै मत्सय संघ भिळ्यो। छठी चेस्टा 26 जनवरी, 1950 में होई। सिरोही नै भेळ्यो। सातवीं अर छेकड़ली चेस्टा 1 नवम्बर, 1956 में होई। अबकै अजमेर रियासत भिळी। इणी दिन 9 बज'र 40 मिनट माथै राजस्थान अर राजस्थानी लोकराज रै गेलै लाग्या। आज रै आपणै राजस्थान नै बणावण सारू सात चेस्टावां होई। राजस्थान दिवस पण तीजी चेस्टा रै दिन 30 मार्च नै ई मनावणो तेवड़ीज्यौ। राजस्थानी भासा रै पाण बण्यौ राजस्थान। हाल पण राजस्थानी भासा राज-मानता नै तरसै। मायड़भासा रा मौबीपूत सुरगवासी साहित्यकार कन्हैयालाल सेठिया रै काळजै री पीड़ दूहे में बांचो-



खाली धड़ री कद हुवै, चैरै बिन्यां पिछाण?


मायड़ भासा रै बिन्यां, क्यां रो राजस्थान ?

हंसोकड़ी कविता

================
जुलम करो ना टैगियो , 

बगसो म्हानै आप
================

टैग करै है टैगिया , ताबै लागी बात ।
टैगां सारू बापड़ा , जागै आखी रात ।1।
टैग लगाया टैगियां , भरदी म्हारी वाल ।
दूखण लागी आंगळी, डो'तां डो'तां माल ।2।
उपड़ै बां रै कुळकुळी, खोसै म्हारी खाल ।
अरै विधाता ढाबलै , आं भूंडां री चाल ।3।
भींत भायला जाण गै,बाबै जी रो माल ।
ऐ तो खूंटा रोपसी , कुण सकै है पाल ।4।
फोटू खींचै आपरी , आय लगावै टैग ।
राजी होवै मोकळा , चेप्यो जाणै पैग ।5।
फेसबुक हत्थै लागगी , कोनीं पालणहार ।
नागा नाचै टैगिया , भोळा खावै मार ।6।
टेगू दादा बगस दै , कोनीं कोई आस ।
कूद कूदगै खूंदसी , करसी भींतां नास ।7।
आप चेपसी लाइकड़ा , दूजां सूं कोमेंट ।
आस लगावै मोकळी , करदै ढिबरी टैंट ।8।
बांचै कोई बातड़ी , राखै कोनीं आस ।
टैग लगावै टैगियां , आपी होज्या पास ।9।
जुलम करो ना टैगियो , बगसो म्हानै आप ।
करां अरज करतार सूं , थांनै लागै पाप ।10।

आपां भोत निबळा हां


OO आपां भोत निबळा हां OO

आपरी भाषा सूं कुण नै लगाव नीं हुवै ! पण इण लगाव नै मन में राख्यां पार नीं पडै़ । इण लगाव रो परगटीकरण टैमसर होयां ई उण भाषा रो मान बधै । साहित्यिक अनै दूजी यात्रावां रै दौरान म्हनै ओ लखाव होयो । दूजै प्रांतां रा लोग आपरी मायड़भाषा सूं कित्तो हेत राखै-देख’र म्हारी आंख्यां खुलगी । कई
सुआल ऊभा होग्या म्हां साम्हीं । म्हन्नै लखायो ,आपां तो आं बिचाळै भोत ई निबळा हां ।

                             पाडो़सी प्रांत पंजाब में म्हूं देख्यो बठै पंजाबी भाषा में कोई च्यार दरजण नेडी़ मासिक पत्रिकावां अर इत्ता ई ई दैनिक अखबार अनै पखवाडि़या अखबार निकळै । अचरज तो ओ जाण’र होयो कै किणी भी पत्रिका री सद्स्य संख्या दस हज़ार सूं कम नीं , अपूठा पच्चास-पच्चास हज़ार तक सदस्य है । बजारां में अर बुक स्टालां माथै पंजाबी भाषा री पत्रिकावां अर पंजाबी साहित्य धडा़-धड़ बिकै । लोग मांग’र चाव सूं खरीदै । पंजाबी साहित्य री पोकेट बुक्स री बिक्री तो किणी भी भारतीय भाषा रै साहित्य री बिक्री सूं कित्ती ई बेस्सी है । पंजाबी साहित्य अर पत्रिकावां नै खरीदण में बठै रा लोग आपरी स्यान समझै । ऐडो़ ई लगाव म्हैं महाराष्ट्र,गुजरात,तमिलनाडू,बंगाल,केरल,आंध्रप्रदेश अर गोवा में भी देख्यो ! बंगाल में तो लोग ब्या, सगाई,जन्मदिन अर दूजै मौकां माथै साहित्यिक किताबां भेंट करै । ओ देख’र जीव सोरो होयो । पण मन रो मोरियो पगां खानी देख’र भोत रोयो । 

                               म्हन्नै पंजाब रो भाषा प्रेम भोत दाय आयो । पंजाब रा लोग आपरा सगळा विज्ञापन आपरी ई भाषा पंजाबी आळी पत्रिकावां में देवै । विज्ञापन सूं पत्रिकावां रो आधार बधै । पंजाब में पंजाबी री कोई पत्रिका री छपाई हळकी नीं । सामग्री रा तो कै’वणां ई कां ईं ! आछै चीकणै कागदां माथै रंगीन छपाई देख’र रळी आवै कै ऐडी़ पत्रिकावां राजस्थानीं में क्यूं नीं ? जद कै पंजाब सूं कित्ता ई लूंठा-तुर्रमखां विज्ञापनदाता अर साहित्य सृजक राजस्थान री धरती रा है । देश रा नामीं-गिरामीं औद्योगिक घराणां में सौ में सूं सत्तर इणी राजस्थान री धरती रा जाया जलम्या है अर आ खास बात कै आं सगळां री मायड़भाषा राजस्थानी ई है । आं रा साल में लाखां करोड़ रिपियां रा विज्ञापन देश-विदेश री हिन्दी अंग्रेजी पत्रिकावां में छपै । पण राजस्थानी री पत्रिकावां निकळतां-निकळतां ई धन रै अभाव में दम तोड़ देवै । अठै री जागतीजोत, माणक , राजस्थली, नैणसी जैडी़ पत्रिकावां टसकती-टसकती निकळै ।

                            ओळमो ,वरदा ,वैचारिकी ,मरूभोम ,राजस्थान भारती , सिरजण ,तटस्थ , विश्वम्भरा , राजस्थानी गंगा , गोरबन्द , परम्परा , मरूभारती , मरूवाणी , अमरज्योति , मनभावन , लाडेसर , हरावळ , चामळ , नेगचार , राजस्थानी रत्नावली , देस-दिसावर ,  जलम भोम , पंचराज , आगीवाण , मारवाडी़ हितकारक , राजस्थान , राजस्थानी , चारण , कुरजां , वाणी , हेलो , म्हारो देश , सरवर , मरवण , मूमल , सिद्धश्री , कचनार , बिणजारो , गणपत , झुण्झुणियों , ओळख , लूर , आद मासिक , दोमाही तिमाही राजस्थानी पत्रिकावां राजस्थानी रो झंडो उठायो पण खरची खूटगी अर छपाई छूटगी ! लखदाद है उण सम्पादकां नै जका आज भी आपरै बूकियां रै पाण लगोलग राजस्थानी पत्रिकावां दोरी-सोरी काढ रै’या है ! निवण है बां नै !

                            राजस्थानी पत्रिकावां रा पाठक घणकरासीक लेखक ई है ।लेखकां नै मानदेय पेटै मुत में पत्रिका मिलै ।राजस्थान रा घणकरा लोगां नै ठाह ई कोनीं  कै राजस्थानी भाषा में इतरी पत्रिकावां निकळै ! पत्रिकावां आम आदमी तांईं नीं पूगै । उपभोक्ता संस्कृति रै इण दौर में उणीज पत्रिका नै विज्ञापन मिलै जकी आम आदमी तांईं पूगै अर उण री प्रसार संख्या हज़ारां-लाखां म एं हुवै । विज्ञापन मोकळा मिल्यां ई पत्रिका चीकणै अर रंगीन कागद माथै छप सकै । नींस दो-च्यार अंकां रै बाद ई सम्पादक नै पत्रिका बन्द करणीं पडै़ ।
आज रै ईण जुग में जकी भाषा में पत्रिका ,अखबार या छापा कम निकळै उण भाषा रो भविख ऊजळो कियां होय सकै ? आज किणीं री हिम्मत नीं कै बो राजस्थानी भाषा में दैनिक अखबार निकाळ लेवै  । पण जद तक दैनिक अखबार नीं निकळै अर उण री प्रसार संख्या लाखां तांईं होय’र आम आदमी तांईं  नीं पूगै उण घडी़ तांईं आ आस  ई निरमूळ है कै राजस्थानी भाषा रै प्रति जनचेतना जागसी ! आज तो भाषा री बैतरणीं बूढियां रै ताण चाल रै’ई है । टाबरिया तो आपणी राजस्थानी नै हिन्दी अर अंग्रेजी रै आंटै में दे ई दी !

                               इण घडी़ निकळ रै’ई पत्रिकावां , अखबारां , कालम चलावणियां अखबारां अर छापां नै मदद अनै पाठकां री दरकार है । पत्रिकावां रो प्रचार लेखक कर सकै । लोगां नै पाठक बणावण री खेचळ कर सकै अर करणीं भी चाईजै । राजस्थान रा प्रवासी उद्योगपति अर बौपारी चेतै अर आपरी मायड़भाषा री पत्रिकावां नै मौकळा विज्ञापन देवै । राजस्थान रा बौपारी , उद्योगपति अर दूजा धनबळी लोग पंजाब-बंगाल-गुजरात-तमिलनाडू-आंध्रप्रदेश-उडी़सा-केरल-करनटक रै बौपारी अनै उद्योगपतियां जियां आपरा विज्ञापन आपरी मायड़भाषा में अर आपरी मायड़भाषा ई में निकळण आळी पत्र-पत्रिकावां नै देवण री धार लेवै तो क्रांति आय सकै । पत्रिकावां अनै अखबार ई पांगर सकै अर मायड़भाषा रो भी बळ बधै । आं री प्रसार संख्या ई बधै अर लेखकाम-साहित्यकारां री हिम्मत ई बधै !

                           आओ आपां सगळा मिल इण माथै चींत करां  ।

चौमासो मुरधर रो उच्छब

[*] चौमासो मुरधर रो उच्छब [*]

चौमासै री बिरखा रा रंग न्यारा । तपती गरमी अर फंफेड़ण आळी लू । इण रै बिच्चै छांटां रो छमको । सुक्की धरती । कळझळता रूंखड़ा । लटपटाईजता घास अर बांठका । तिरस साम्भ भटकता डांगर । पाणी पाणी करता पिराण छोडता पंखेरु । रुंआंड़ी उपाड़तो किरसो । मुरधर मेँ मोरां रै कंठां में टसकता बिरखा रा गीत । डेडरां रै ताळवै चिपती जीभ । काछबां रा पग पिंड मेँ कैद । चौगड़दै हाहाकार । आस कै होसी कदै ई तो जळजळाकार । च्यारुं कूंट बिरखा री चावना-ध्यावना । क्या कैवणां है ऐड़ी चाईजती घड़ी मेँ बिरखा रा ।
                         मुरधर मेँ बिरखा री पैली ई छांट री रंगत निरवाळी । बिरखा रा अणूंता कोड । मोरिया नाचण ढूकै । डेडर कंठ सम्भाळै अर लाम्बी तान टेरै । काछबा देखै जळव्हाळा । रूंखड़ा लैरिया करै । बांठका-झाड़का पान सोधै । सीवण, धामण,बूर, भुरट, मुरट , खीँप,बूई सिणियां अर डचाब पसवाड़ो फोरै । रोई आप रा हरियल गाभा अंवेरै । किरसो हळ पंजाळी सीध मेँ करै । धरती पेट पड़िया बीज उजाळै । चौमासो मुरधर मेँ उच्छब रै उनमान । चौगड़दै पाणी रा गुणगाण । बिरखा रा नाप आंगळ्यां माथै । अर आंगळ्यां खेत खानीं । खेत मेँ चिग बापरै तो डांगरां रा मन उडारु ।
                       खेतीखड़ आपरै धंधै । टाबरिया रम्मतां मेँ । रम्मत मेँ माटी रा घर । छोरयां हींडा री होड मेँ । लुगायां तीजां री त्यारयां मेँ । नूंईँ बीनण्यां तकावै पीवरिया । नूंआं परणीज्या मोट्यार पैलै सावण धण अळगाव मेँ बटबटीजै । खेतां मेँ लुगायां भेळी होवै । साथै रैवै जोधजुआन छोरयां-छापरयां-बीनण्यां । खेत मेँ रूंखां रै ऊंचा लाम्बा डाळां माथै घलै हींडा । पकै पकवान । पकोड़ा । चीलड़ा । चूरमां । गुलगुला । मालपूआ । पुड़ा । पछै हीँडीजै हींडा । लाम्बी लाम्बी ऊबल्यां मचकाईजै । ऊबली ऐकल अर जोड़ै सूं । ताळी । नाच । हंसी । ठठ्ठा । गीत । किलोळ । इण सब मेँ छूटै हांफड़ा । भळै थक हार बनभोजन नै ढूकै । सगळी भेळी जीम्मै । जीम जूठ घरां आवै । खेत बणाई चीजां घर रै बाकी लोगां मेँ बंटै । घर रा सगळा कोड सूं जीम्मै । छेकड़ सगळी थक हार सोवै ।
                      बिरखा मेँ तळाब , कुंड, बावड़ी आद स्सै भरीजै । लबालब । मोट्यार आं मेँ न्हावण ढूकै । गंठा बीड़ै । चुभ्यां लगावै । पाणीँ मेँ ऊंदा सूआं तिरै । गंठा बीड़णोँ ऐक कळा । हरेक नीँ बीड़ सकै गंठो । गंठो, ऊंची जाग्यां सूं पाणी मेँ कूदण री ऐक कळा । ऐक पग सीधो अर दूजै पग रो पंजो पैलड़ै पग रै गोडै माथै । तीखो रूप । सीधो पाणीं मेँ-देड़ेंदा । हब्बीड़ ऊपडै़ । पाणीं में जळेबी बणै । अर सगळा ताळी देंवता बोलै-फलाणैं जबरो गंठो बीड़ियो ! तळाब रै किनारै बिजिया[ भांग ] घोटीजै ! सगळा मिल भांग पीवै ! भांग पीयां पछै न्हावण री ऐक झुट्टी भळै लागै । न्हावंतां-न्हावंतां भांग असर सरू करै । भोख बधै !
                       न्हावण रै बाद तळाब माथै ई गोठ होवै । सीरा-पूड़ी, दाळ-बाटी-चूरमो अर पकोडा़ बणै ! मोगरी रो चूरमो भांग रै नसै में दूभर्या लगावै । बीकानेर रै हंसोळाव,संसोळाव,हरषोळाव,कोलायत अर सागर रै तळाबां माथै आं दिनां गोठां रा दौर चालै । बजरंग धोरै माथै भी रंग जमै । जोधपुर, उदयपुर,जैसलमेर,बाड़मेर,कोटा,बूंदी री तो गोठां नामी है । देस दिसावर गया लोग आं गोठां रा सुख लूंटण सारू पाछा आवै ! मुरधर में गोठां री मै’मा निरवाळी !

एक राजस्थानी कविता

ऊंदरी री मनस्या
===========

ऊंदरी बोली ऊंदरै सूं देखो जी
म्हां सूं अब
नीं कुतरीजै
जाडी-जाडी जीन्स
विंड चिटर आळा कोट
आज ई खबर लागी है
खबर ई जबर लागी है
फेर पड़सी अबकै
ऊंदरगढ में
सिरैपंच आळा बोट
अबकै तो स्याणों
सीट है लुगायां री
करो नीं ईं खातर
अबकै म्हनै प्रमोट !

ऐक बार जे
कुरसी हाथ आयगी तो
गांव में गोगा गुवाद्यूंगी
आपणै टाबरां रा बिल
नरेगा में खुदवाद्यूंगी !

बिल बणावणों आपणों
डावै हाथ रो काम
माणसिया सिरैपंच तो
कागदां रा छपावंता
फरजी ई बणांवता
म्हैं पूरै गांव में
असली बिल खुदवाऊंगी
बां बिलां सूं
घर-घर जाऊंगी
पछै देख्या थां खातर
कित्ता न कित्ता
माल मलीदा ल्याऊंगी ।

सगळा नेता अर अफसर
थांन्नै बोल सी ब्रोदर
मोटोड़ा बोटां में
राड़-लड़ाई-सोटां में
थारी ई चालसी चौधर
थाणां चालसी
आपणै हुकुम पर
देख-देख सगळा
दुसमी जासी ओदर !

सिरेपंच बण्यां पछै
देख्या म्हारा चाळा
रांड मिनकी नै
गंडका सूं पड़वाऊंगी
पछै सगळै गंडकां नै
देऊंगी देस निकाळा
फेर देख्या थे
थांन्नै नितगी पैराऊंगी
नोटां आळी माळा !

बात ही बात में

गाडी में मायड़भासा
=============

भादरा जावण सारु बस में बैठ्यो । बस पिंचर होयगी । बस छोड गाडी चढ्यो । गाडी में बैठ्या हा बूढा-बडेरा अर स्याणा मिनख । हताई चलै । बातां में रस अणथाग । सगळा राजस्थानी बोलै । ऐक सिक्ख डोकरो अर ऐक यूपी रो बाबो भी बैठ्यो । बात जीम'र घर सूं निळण पर घुळगी । सरदार जी मून बैठ्या बैठ्या सुणता रैया , सुणता रैया । छेकड़ बोल्या ई । बोल्या तो चाळा ई काट दिया । रंग ई लगा दिया । खांटी राजस्थानी में बोल-
"जीम-जूठ'र पोढ जाणों अर कूट-काट'र भाज जाणों ! घर सूं कीं न कीं खाय'र ई निकळणों चाईजै , चावै मा री थाप ई खाय'र निकळो ! फेर फोड़ा कोनीं पड़ै ! "
म्हैं सरदार जी रो मुंडो देखतो ई रैयग्यो ! म्हारी आंख्यां साम्ही एक अफसर रो मुंडो घूमग्यो ! बो ठेट राजस्थानी है पण दफ्तर में राजस्थानी बोलणियां नै टोकै -"ये गंवारों की तरह मत बोला करो !"
रीस तो घणीं ई आवै पण..... फगत जाड़ पीसल्यां !

गीरगडी

 लोक री बात
==========
गीरगडी भई गीरगडी ।
सासू छोटी बहू बडी ।।
सासू जाम्यो गीगलो ।
बहू बेटा तूं दही बिलो ।।
माखण काढ मोकळो ।
सासू देस्सी ढोकळो ।।

एक राजस्थानी कविता

सात राजस्थानी कवितावां :ओम पुरोहित "कागद"


1-भाषा

भाषा

पिराण


जड़ अर चेतन री


अरथावै


निराकार नै


करण साकार !




भाषा खूटै


रुळै


जड़ - चेतन


चेतन-जड़


थकां आकार !


*

2-सबद


सबद संचरै


अरथावण मनगत


मन भरमीजै


अरथां


सुवारथां


कोरै चितराम


ऊजळै भरम !


*

3-मनगत

मन री गत

नीं उकरै


सबदां !


मन री


मन में


थपै-उथपै गत !


*

4-बगत


इकसार नीं

बगत


बगत-बगत


बदळै बगत !




बगत खूटै


बगत ई बचै


बतळावण बगतसर


बगत री बात !


*

5-बतळावण

च्यारूं कूंट सरणाटो

सरणाटै सूं


सरणाटै री बतळावण


सुणै कुण ?




सरणाटै रै आर सरणाटो


सरणाटै रै पार सरणाटो


थारै म्हारै बीच


त्यार सरणाटो !




आओ सीखां


भाषा


सरणाटै री !


*


6-आकार

कुण साकार

कुण निराकार


थकां भूख


भूख ई


पसरै-सांवटीजै !




भूख


अन्न री


धन्न री


मन री


ग्यान री


ध्यान री


परमाण री


कदै’ई निराकार


कदै’ई साकार


भंवै जगती में


भंवती भूख !


*

7-तप



तप मांगै

भख


तन्मन रो !




तपै धोरी


अखूट तप


जपै पाणी


फ़गत पाणी


पाणी निराकार


पाणी साकार


बो पाळै


ध्यावना-चावना


पण


तिरस पड़तख !


*




[] ओम पुरोहित "कागद"

24-दुर्गा कोलोनी

हनुमानगढ़ संगम- 335512
Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...
इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.