कागद राजस्थानी

सोमवार, 16 जुलाई 2012

दूहा

घर रो दूधज डेरियां , टाबर टोपो नाय ।
कंजूसां रै राज में , छाछ मांग कै ल्याय ।।

पावणां रा दूहा

*पावणां रा दूहा *
 
पावणां है-क पीवणां ?

घर में आया पावणां, मीठा बोलै बोल ।
घर सूं बारै जांवतां,भूंडा पीटै ढोल ।।

घर रा खावै राबड़ी, पावणियां रै आम ।
माथो कूटां बापजी ,कद जावैला गाम ।।
कांदा काट्या कामणीं , सीरो पूड़ी साग ।
थाळी धरगै सामनै ,ढाबै मन री आग ।।
 जीम जूठगै पावणां , पापड़ मांगै और ।
राम बरोबर पावणां , चालै कांईं जोर ।।
 आईसक्रीम ठोकली , पावणां भूंडै हाल ।
गुलफी खाई टाबरां , राफां करली लाल ।
 जीम्यां पाछै पावणां , किरचो मांगै नाप ।
घर म्हारै आय जाणै ,धरग्यो बां रो बाप ।।

अमूंझण्यां

*पांच अमूंझण्यां*
1.
दिल रो मरीज
लोगां नै कैवै
मुझे आप कहो
दिलावर प्लीज !
2.
घरै कोनीं
चीकणैं रो छांटो
नाम मक्कण राख
हो रैयो हैं आंटो !
3.
नाम धर दियो
मायतां धनजी
पल्लै कोनीं
बापड़ै रै
एक पंजी !
4.
नाम तो है शेर
पण ऊंदरै नै देख
मूत करतो
नीं लगावै देर !
5.
नाम राख सुंदर
हो रैयो है टेडो
नासां में बगै
लप लप सेडो !

अमूंझण्यां

* पंदरै अमूंझण्यां*
1.
घर आळा
दूधनाथ-दूधनाथ करै
पण भाई रै
मुंडै विस झरै !
2.
गुरुपाल रै
गुस्सो फूट्यो
बण गुरूजी नै
जम'र कूट्यो !
3.
पवन नाम रो छोरो
चालै भोत ई दोरो !
4.
भाइड़ो सिकन्दर
तीन साल सूं
बैठ्यो है अन्दर !
5.
नांव लक्ष्मीनाथ
पण करजो
सेळा-सोळा हाथ !
6.
देखो भूपति
जूं जित्ती कोनीं
पल्लै सम्पत्ति !
7.
घर आळा
जकै रो नांव
अमरसिंघ धरग्या
बै तो तीन साल पैली
जुखाम सूं मरग्या !
8.
घर में आयगी
जबरी क्रांति
जद सूं
रोळा करण लागी
घरआळी शांति !
9.
बीनणी आई शीला
बण गाळां काढ-काढ
घरआळां नै कर दिया
राबड़ी जिस्सा ढीला !
9.
आपणों पड़ोसी है प्रेम
पण
नफ़रत है उण रो नेम !
10.
खुद रो नांव
बतावै उनमान चांद रो
काच में देखै जणां
लागै एकदम बांदरो !
11
नांव तो रामस्वरूप
पण काम
रावण रै अनुरूप !
12.
सेठ धनपत
करजै में लथपथ !
13.
लुगाई सूं
कुटीजतो आयो है
खुद रो नांव पण
शक्तिसिंध बतायो है !
14.
मीठू कैयां मुळकै
पण मुंडै सूं
जैर ई जैर ढुळकै !
15.
आच्छी करी
छोरै धर्मराज
ब्या खातर
धर्म ई
बदळ लियो आज !

अमूंझण्यां

*तीन अमूंझण्यां*
1.
उण
दिल तो दे दियो
लुगाई नै
फेर भी
सांस आवै
उण भाई नै !
2.
झूठ रो
कांईं घाटो
पिसावै कणक
अर
बतावै आटो !
3.
गांव जावै
बैठ'र बस
घर आळां नै
फोन करै
बेगो कियां आऊं
म्हैं हूं बेबस !
 
* पांच अमूंझण्यां *
1.
ऊतिया तो
काम ई ऊत करै
आपरै ई घर री
लारली भींत माथै
मूत करै !
2.
खुद नै
समझदार बतावै
आप चालै
पण
सड़क नै
जांवती बतावै !
3.
आपरो डोळ
आप ई गमावै
खुद चालै
खुद पूगै
गांव पूग परा
गांव आग्यो बतावै !
4.
आप रा गुण
आप ई गावै
फिक्कै फल्लर पाणीं नै
मीठो बतावै !
5.
भाठै री देवळ
कीं नीं खावै
फेर भी
खुद रै गिटण खातर
पुजारी अर लोगड़ा
माल मलिदा चढावै !

अमूंझण्यां

*तीन अमूंझण्यां*
1.
उण
दिल तो दे दियो
लुगाई नै
फेर भी
सांस आवै
उण भाई नै !
2.
झूठ रो
कांईं घाटो
पिसावै कणक
अर
बतावै आटो !
3.
गांव जावै
बैठ'र बस
घर आळां नै
फोन करै
बेगो कियां आऊं
म्हैं हूं बेबस !
 
* पांच अमूंझण्यां *
1.
ऊतिया तो
काम ई ऊत करै
आपरै ई घर री
लारली भींत माथै
मूत करै !
2.
खुद नै
समझदार बतावै
आप चालै
पण
सड़क नै
जांवती बतावै !
3.
आपरो डोळ
आप ई गमावै
खुद चालै
खुद पूगै
गांव पूग परा
गांव आग्यो बतावै !
4.
आप रा गुण
आप ई गावै
फिक्कै फल्लर पाणीं नै
मीठो बतावै !
5.
भाठै री देवळ
कीं नीं खावै
फेर भी
खुद रै गिटण खातर
पुजारी अर लोगड़ा
माल मलिदा चढावै !

कुचरणीं

पांच मानसूनी कुचरणीं
============

1.
*बादळ*

बादळ कांईं करै
आभै अर धरा पर
कोनीं हरी सब्जी
इण खातर
बादळां रै
होयगी कब्जी !
2.
*मानसून*

मौसम नै
होवणो हो मानसून
पण गळती सूं
ऊंधो होग्यो
होग्यो सुनमान !
3.
*बिरखा*

बिरखा परदेसण
करै नखरा-
तपती धरती
तोवै उनमान
छांट पड़तां ई
लागै छमको
बिरखा कैवै
डर लगता है
इसका हमको !
4.
*बादळ*

गोरा-चिट्टा बादळ
फिरंगी सा फूटरा
आया अर उडग्या
लेयगी सोतण हवा
हाळ उडीके धण धरा
पातळिया पिव नै
विजोगण मरुधरा !
5.
*छांट*

ठाह नीं
कांईं हैं आंट
बळतां माथै ई
नीं पड़ै छांट !

दूहा

बिरखा रा पांच दूहा
============

बरस झमाझम बादळी , आल्ला करदे ताल ।
तप-तप बैरी सुरजियो , भूंडी खावै खाल ।1।
*
बादळ मुरधर भेजदे , सुणलै थूं करतार ।
बिरखा होयां जीवस्यां ,जूण पड़ी मझधार ।2।
*
कूलर-पंखा फैल है , सूरज आगै राम ।
बिरखा आयां पांगरै,बळती माणस चाम ।3।
*
भीतर ठारै राबड़ी , बारै लागी लाय ।
काया होवै ठारकी,बिरखा दे बरसाय ।4।
*
बादळ थारी धण धरा, क्यूं राखी बिलगाय ।
पूत हरियल जामसी ,लगा काळजै आय ।5।

हाइकू

पांच हाइकुड़ा बकरी रा
============

1.
करली प्रीत
जाणै पाळी बकरी
करी हलाल !
2.
चाल बकरी
नहावण नै चालां
हो लेवां गोरा !
3.
भेड-बकरी
जात न्यारी, है भेळी
सीख मिनख !
4.
चढी बकरी
देव-मिनख राजी
मर्‌या भोळा ई !
5.
गमी बकरी
लाधगी मेळै में
काटो बकरी !

कुचरणीं

.  डाई री कुचरणीं
=€=€=€=€=€=€=

1.
जद ताईं
मिलै बजार में
भांत-भांत री डाई
बूढो नीं होवै
कोई मरद-लुगाई !
2.
पातळियै भरतार
लुक लुका'र
सिर में लगाई
डाई बेअंत
पण गोडां में
कोनी आयो
जाबक ई तंत !
3.
मरवण बोली
सुन्नी पड़ी है
सावण में
म्हारी सेज
थे किन्नैं फिरो
डाई सेंट लगा
तेजम तेज
म्हारै काळजै
बैठ सुधारो
खुद री इमेज !
4.
जोड़ायत बोली
कुलछणै भरतार सूं
बाळ धोळा
दिल पण काळो
इण नै डाई लगा
इकसार तो
करो बाळो !
5.
डाई लगाय बाळ
कर लिया काळा
बुड्ढै बाबो जी
आंख पण दे दियो
गेलै बगतां धोखो
और रै भरोसै
छेड़ बैठ्या
आपरी जोड़ायत नै
बण जद धोयो चोखो
बोल्या
बात है बठै ई
दाबो जी !

टैम कुजरबो आग्यो

.
टैम कुजरबो आग्यो
============

टैम कुजरबो आग्यो काका ।
आम आकड़ां लाग्यो काका ।।
ठाह नीं कियां बचगी धरती।।
मिनख मिनख नै खाग्यो काका ।।
काळ जीमसी सगळी धरती ।
धूळ भतूळो छाग्यो काका ।।
खेत धरम रै राखस ऊग्या ।।
कूड़ करम कुण बा'ग्यो काका ।।
मीठो कुंड गंदळो पाणीं ।
कुणसो बड़गै न्हाग्यो काका ।।
भजन राम रा गावण आयो ।
घर में हरजस गाग्यो काका ।।
दिल्ली पूग्यो नेता आपणों ।
हक समूळा पचाग्यो काका ।।
मरो-क जीयो मरजी थारी ।
देस अजाद बताग्यो काका ।।
Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...
इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.