कागद राजस्थानी

शनिवार, 26 जनवरी 2013

थार सप्तक



मधु जी री "गवाड़" रो लोकार्पण


दैनिक भास्कर में


थार सप्तक


पटाका (कुचरणीं)

पटाका (कुचरणीं)
============
मम्मी बोली
जा बेटा काळिया
बजार सूं पटाका ले आ
काळियो बोल्यो
ना मम्मी , ना !
मम्मी पूछ्यो -क्यूं बेटा ?
काळियो बोल्यो
पटाका भोत भारी होवै
म्हां सूं भार ढोईजै कोनीं
आपां तो
पटाकां बिन्यां सार लेस्यां
काल बापूजी
पाड़ोसन अंटी नै
पटाको कैवै हा
अर
गोदी उठावै हा
पण भोत टसकै हा
!

छांटा छिड़को

छांटा छिड़को
=========
भारी भरकम पत्नी ने
अपने पति से कहा
आप मुझे 
अपने नैनो में बसा लो
राजस्थानी पति बोला
थारै खातर तो बावळी
टरकड़ो मंगावाणो पड़सी
थूं नैनो में मावै कोनीं
हाथ्यां नै ढोवण आळी नैनो
टाटा तो बणावै कोनीं !

कळै रो मूळ

कोई कैवै
मून राखो
एक मून सो बातां रो
एक जवाब है
कोई कैवै
मून तोड़ो
मून ई कळै रो मूळ है
अब थे ई बताओ
कांईं करां ?

. चिंत्या

.
चिंत्या
=====
बेटै मा नै फोन कर्‌यो
सफाई करतां
थांरी बीनणीं
निसरणीं सूं पड़गी
निसरणीं नीचै 
अर बा ऊपर पड़गी !

मा बोली
निसरणीं थांरै दादो जी रै हाथ री है
इसी फेर नीं बणै
अब तो इस्सा बांस ई नीं मिलै
निसरणीं तो बंचगी नीं ?
बींनणी री कोई बात नीं
चिंत्या ना करी
बीनणीं तो और आ जासी !

दूहा,

गूदड़ छूटै कोयनी, डाडो आवै लाड ।
इण सरदी रै मांयनै, बारै धूजै हाड ।।
लप लप होवै लुपरियो, सागै ताती चाय ।
खा-पी पोढां गूदड़ां, नींद गटागट आय ।।
बूढा होग्या भायला , मांची लीवी झाल ।
इण सरदी रै मांयनै, झीणीं पड़गी खाल ।।
छाती बाजै नाक चलै, रातां नींद न आय । 
धणीं-लुगाई ऐकला, कुण सो रांधै चाय ।।
आंख्यां सोझी खूटगी, गोडां गमगी ग्रीस ।
सुणै न बातां कान सूं , बेजां आवै रीस ।।
कागद बूढो होयग्यो, आवै कोनीं सांस ।
इण सरदी रै मांयनै,जीवण रा नीं चांस ।।

थार सप्तक

दूहा,

सूरज दिख्यो न तावड़ो, ठंडी आई रात ।
धंवर रोसै काळजो , किण विध बणसी बात।।
सूरज लुकग्यो भायला, धंवर सिरखड़ी ओढ ।
काया धूजै मानवी,सून्नो होग्यो भोड ।।
भाफां छोडै राफल्यां, अंतस ठंडो ठार ।
भीतर कुणसो बैठग्यो, धूणीं जबर जगा'र ।।
चूल्है जगै न बास्ती, लकड़ न झालै लाय ।
आधी बीत्यां रातड़ी , बाबो मांगै चाय ।।
सणै पैंटड़ी सोयग्या,दो-दो सिरखां न्हाख ।
सरदी डाकण ना ढबी, जतन खूटग्या लाख ।।

हंसोकड़ी,

डोकरी
000000
डोकरी बोली
अजकाळै भोत सुणां
प्यार होग्यो-प्यार होग्यो
ओ प्यार आलो रोग
म्हांरली बगत कठै हो
म्हैं तो म्हांरी जूण
नत्थू बाबै लारै गाळ दी
साची पूछो तो
काच्ची कंवळी काया
फोकट में ई बाळ दी ।

टींगर-टींगर्‌यां नै
प्यारिया करता देख
अब बुढापै में रळी आवै
पण बै दिन
अब पाच्छा किंयां आवै
होठां माथै लिपिस्टिक
माथै में डाई कराई है
पण आंख्यां सूं
कोई निजर नीं आवै
आथणगै देखूं तो
गेडियो टेकतो
बो ई नत्थू बूढियो
टसकतो घरां आवै !

अब छेकड़
फेसबुक माथै जाय
खातो खोल्यो है
16 आळी फोटू
61 में लगाई है
देखांण कोई बातड़ी बणै
बणै तो प्यार करूंली
नीं तो जींवतै जी मरूंली !

दूहा,

कळै मूळ राजनीति, धरम करम ना जात ।
हेत बिगाड़ै कुरसड़ी,
कर कर भूंडी घात ।।
आतंकी बिन जात रा, कुणसी उण री जात ।
थूक उछाळै नेतिया, बात बिनां री बात ।।
आतंकी है भायला , मिनख मारणों घात ।
कुणसो धारै धरम नै, कुणसो धारै जात ।।
घोटालां में भायला, कद हिन्दू मुल्ला हाथ ।
देसज लूंटै ऐकला, कुरसी बैठ्या नाथ ।।
जात बणाई नेतियां, ऐ बी सी डी जोड़ ।
बोटां आळी टैम में, जातां हुवै बेजोड़ ।।

दूहा,

कुरसी बैठ पकायली, चिंता हंदो सार ।
डांग चोपड़ो बेलियो, जनता खासी मार ।।
जनता मांगां राखसी, राखो भासण त्यार ।
हींग लागै न फिटकड़ी, भाषण देसी तार ।।
बोटां आळी पोटळी, ल्याओ ऊंच आंच ।
फेर बैठांला चैन सूं, बरस भायला पांच ।।
टाबर देखो आपणों, होग्यो जोध जुवान ।
गिद्दी छोडो मोहन जी, सांभसी खुद दुकान ।।
गांधी नांव अमोळ है, गांधी तारणहार ।
गांधी गाथा जापल्यो, छोटो गांधी त्यार ।।

दूहा

कुरसी जावै बेलियो, आओ मांडां चींत ।
बोटां आडी भायलां, कुण मांडी है भींत ।।
राजकाज सै छोडगै, कुरसी सांभो आज ।
बिन कुरसी रै बापजी, किंयां मिटसी खाज ।।
जनता गूंगी भेड है , फेर घालसी बोट ।
कुरसी जासी भायलां, आ जे चढगी घोट ।। 
जीम्या जीता जीमग्या, अब थे डाटो हाथ ।
भीड़ बीच में जायगै, बोलो जनता नाथ ।।
नारा सोधो फूटरा, जनता गूंगी सांड ।
भासण सुणगै तूठसी, बोट घालसी पांड ।।

बात बात में बात

म्हारै जिलै में
कई दिन 
धारीदार तेंदुआ आया
अर कई दिन 
खद्दरधारी तौंदुआ
जनता बणगी भेड
कदैई तेंदुआं लारै
कदैई तौंदुआ ला
रै !
Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...
इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.