कागद राजस्थानी

बुधवार, 22 मई 2013

सुरजीत पात्तर की पंजाबी कविता का अनुवाद




*पांख्यां दे दे परमेसर*

दीठ में
हरमेस बसै थूं
म्हारा व्हाला मींत
आंख्यां है
देखण बापड़ी
भोत खसै
आंख्यां सूं 
दिखै नीं पण थूं ।

उड'र आवणों चाऊं
थांरै सांकड़ै
म्हारा व्हाला मींत
पण पांख्यां कठै
ऐ आंख्यां ले लै
म्हारा परमेसर
अर दे दे पांख्यां
आंख्यां छोड पांख्यां सूं
उड'र जाऊं बठै
जठै म्हांरो मीत बसै !
Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...
इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.