कागद राजस्थानी

शुक्रवार, 9 अगस्त 2013

म्हांरै मुंडै पाटो

म्हारै खांनीं सूं
इज्जत देवण में
कोई कसर कोनीं
बां रै खांनीं सूं
इज्जत लेवण में
कोई कसर कोनीं
म्हारै तो
दोरा-सोरा टळै टंक
बां रै खन्नै
डांगरां नै चरावण सारु
टणां आटो है
फेर भी बै कैवै
म्हारै घाटो है
बै गाळ काढता
जाबक नीं संकै
म्हांरै मुंडै
बरसां सूं पाटो है !

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...
इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.