कागद राजस्थानी

बुधवार, 23 अप्रैल 2014

*चुणावी कुचरण्यां*

1.
पैली चालै
दारू-डोडा
अमल-अफीम
आटो अर सोट
पछै घलै
जीतणजोग बोट !
2.
दिन में चालै
रैली अर भासण
रात नै चालै
दारू अर रासण
हारै युधिष्टर
जीतै दुसासण !
3.
नेता जी रै
चढगी घोट
हटावण रो है
टूणों एक
सगळै गांव रा
घालो पूरा बोट !
4.
ना विकास पर
ना बात पर
बोट मांगै
नेता खुद री
जात पर है !
5.
पढता हा जद
हा सरारती
होमवर्क करता नीं
तो मैडम मारती
अब जीत'र बणसी
शिक्षा मंतरी

फेर नेता जी ढूंढसी
मैडम री जंतरी !
6.
नेता जी नै
देवो चावै
कित्ता ई फोट
पण मत चूको
देवण सूं बोट ।
7.

पैली
घलता बोट
फैल नेता नै
पांच साल बाद
देंवता फोट
अब
बोट होवै पोल
इणी कारण
पांच साल ताईं
चालै पोलमपोल !

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...
इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.