कागद राजस्थानी

गुरुवार, 24 अप्रैल 2014

आफत

आफत है साम्हीं
ओ जाण'र
लुक'र सोयां
हार मान'र रोयां
पार नीं पड़ै
पार तो भाई
आफत रै साम्हीं
आयां ई पड़सी ।

भाजणियां कुटीजै
का पड़ै आखड़'र
थे क्यूं भाजो
दकाळो अर लारै पड़ो
पगबारी आफत रै
मांडो लड़त
देख्या, एक दिन
बै ई जीतसी
जका आफत सूं लड़सी !

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...
इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.