कागद राजस्थानी

सोमवार, 8 अगस्त 2011

2 सतलड़ी

*सतलड़ी*
 
जाग सकै तो जाग भायला ।
नीँ-स लगा दे आग भायला ।
 
मनड़ै री कथ बेगो बेगो ।
क्यां भी काढै राग भायला ।
 
.उछाळ आज मत माथै राख।
नीचै पड़गी पाग भायला ।
 
थारी पांती खोसण ढूक्या ।
मुंडै अणवा झाग भायला।
 
गोदा घुसग्या आंख्या सांमीं।
क्यूं लुटवावै बाग भायला ।
 
भाषा थारी भूंडै नुगरा ।
कर दे बां रा दाग भायला ।
 
लेय लाम्पो लगावण चालां ।
बूजा है अणथाग भायला।
 
 
-रूंखड़ा-
 
जड़ां छोड्या पिराण रूंखड़ा।
ऊभ्यो किणरै ताण रूंखड़ा।।
 

तूं तिरसायो कळपी धरती। 
 आभै में घमसाण रूंखड़ा ।।
 
छीँयां सटै आज पंछीड़ा ।
भूल्या मीठो गाण रूंखड़ा ।।
 
थारा पान खोय बायरियो ।
रुळग्यो राणोराण रूंखड़ा ।।
 
बरसां थारै बांध राखड़ी ।
बळगी बेलां भाण रूंखड़ा ।।
 
थारी काया मुरधर माया ।
आज रुळै है आण रूंखड़ा ।।
 
काढ़ पानका दे हरयाळो ।
जीयां थारै पाण रूंखड़ा।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...
इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.