कागद राजस्थानी

शुक्रवार, 15 जून 2012

सगत रै हाथ बगत

सगत रै हाथ बगत
============

समूळी सगती
म्हारी आंख्यां साम्हीं
सांवट'र चढ बैठ्यो
म्हारी छाती
हाथां दिया घमीड़
जीमतै री थाळी खोस
खायग्या म्हारी पांती
बरज्यो बकारयो तो
हाका करया
म्हारी बुसक्यां देख
परचावण ढूक्या ;
आ बगत री मार है
समो भोत बळवान
इण रै आगै
बिसात कांईं मिनख री ?

म्हैं मनां सोचूं
उथळूं घट में
सिरकै क्यूं नीं
जे सिरकै नीं तो
सगत रै हाथ
क्यूं है बगत ?

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...
इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.