कागद राजस्थानी

शुक्रवार, 1 जून 2012

दूहा-गुट रा गुटका

गुट रा गुटका
========

गुट रा गुटका सांतरा , मीठ लागै भोत ।
गुट सूं बारै जांवतां , साम्हीं दीखै मौत ।1।
गुटज बणाओ भायलां , गुट में बेजां मौज ।
निरगुटियां रा आपनै , खुर लाधै ना खोज ।2।
गुट में रांधी खीचड़ी, गुट में लीवी खाय ।
गुट बारै री लापसी, आवै कोनीं दाय ।3।
गुट रो तूंबो सेव है , निरगुट आम्बो आक ।
गुट रा ढकल्यो ऐबला , निरगुट काटो नाक ।4।
गुट रो लेखक सांतरो , मांडो चावै गाळ ।
निरगुट मांडै टाळवीं ,उण नै देवो टाळ ।5।
गुट री काढां चौपड़ी , गुट नै देवां  छाप।
                                                    निरगुट आळा छापगै ,क्यूं कमावां पाप ।6।
गुट आळा ई तारसी, जास्यां सागर पार ।
पासपोर्टड़ा त्यार है ,आदेसां इंतजार । 7।
 धन रो मोटो फायदो , दिल नै देवै जोड़ ।
बिना फायदै भायला , यारी देवै छोड़ ।8।

मतलब पेटै भायला , मतलब छोडै यार ।
मतलब री माया चलै , मतलब निकळ्यां पार ।9।

गुटबंदी में मौज है , गुटबंदी भगवान ।
गुट रै साथै चालगै , काम चढै परवान ।10।

निरगुटिया तो ऊतिया , डोफ्फा गूंगा सांड ।
निरगुट चाबै आकड़ा , गुट में बंटै खांड ।11।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...
इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.