कागद राजस्थानी

शनिवार, 26 जनवरी 2013

. चिंत्या

.
चिंत्या
=====
बेटै मा नै फोन कर्‌यो
सफाई करतां
थांरी बीनणीं
निसरणीं सूं पड़गी
निसरणीं नीचै 
अर बा ऊपर पड़गी !

मा बोली
निसरणीं थांरै दादो जी रै हाथ री है
इसी फेर नीं बणै
अब तो इस्सा बांस ई नीं मिलै
निसरणीं तो बंचगी नीं ?
बींनणी री कोई बात नीं
चिंत्या ना करी
बीनणीं तो और आ जासी !

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...
इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.