कागद राजस्थानी

रविवार, 1 अप्रैल 2012

डांखळो

.
(@) होळी पर डांखळो(@)

होळी खेल'र घरां आयो गोमली रो धणी ।
सकल  देख'र लुगाई  होई     अणमणी ।
        कित्ता ई करया न्हाण
        आई ई कोनी पिछाण
थाप्यां सूं कूट कूट धोयो बात जद बणीं ।।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...
इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.