कागद राजस्थानी

मंगलवार, 7 जून 2011

डांखळा

डांखळा
 
[]-ओम पुरोहित "कागद "
 
 
 
 
[1]
लूंठा कवि हा चूणदान चोटिया ।
सुणाया करता दूहा फ़गत खोटिया ॥
पैली तो खूब गाजता
पछै धोती चक भाजता
सरोता जद चक लेता सोटियो ॥
[2]
ठुमक’र ऊंदरै कन्नै आ कैवण लागी ऊंदरी ।
देखो जी म्हूं लागूं हूं नी आज विश्व सुंदरी ॥
बोल्यो परनै जा रांड
थोबड और आगै मांड
नासां इयां लागै जाणै सीसी हुवै गूंद री ॥
[3]
नितनेमी हा पंडत जी दोनूं टैम मांगता आटो ।
छोडता कोनी जे मिल जांवतो डांगरां रो चाटो ॥
कुत्तियां री ही अबखाई
दिक्कत ही तो ही आ ई
ईं सारू राखता साथळ ताईं प्लास्तर रो पाट्टो ॥
[4]
चीज मांगतो जणां बोलतो ओ के प्लीज ।
आसूडो इस्सो पढ्यो कै भूलग्यो तमीज ॥
टैम ही भौर री
हाजत ही जोर री
हंगण बैठग्यो पैंट री जाग्यां खोल’र कमीज़॥
[5]
रसगुल्लां री दुकान खोली प्रभु जी पूर ।
गाहक पटांवतां रै ऊडण लाग्यो बूर ॥
साल भर अड्या रे’या
रसगुल्ला सारा पड्या रे’या
छेकड जंवतां रा बिकग्या बांरा स्सै पूर ॥
[6]
मुर्गी दांईं बांग देंवती मुर्गी बाई पंडा ।
मिनखां में बैठती जद गाळ देंवती गंडा ॥
आप रै सुभाव सूं
नाम रै प्रभाव सूं
दिन में दिया करती बा पांच-सात अंडा ॥
[7]
अमेरीका रा लूंठा सोखीन मिस्टर डांग ।
गंडक ल्यांता मोल,कई ल्यांता मांग ॥
इण रो होयो असर
सरीर में होगी कसर
मूत करता मतैई उठ जांवती एक टांग ॥
[8] 
जाबक लिगतो हो बोगड़ सिँह परमार।
हरेक चीज खावण नै रैँ'वतो त्यार ॥
लुगाई कीँ घाल्यो कोनीँ
...जोर कीँ चाल्यो कोनी
रीसां बळतो चाबग्यो लुगाई री सलवार।।
[9]
टींगर परनावण चाल्यो भत्तू मल मे'रा।
बीन रूसग्यो बण लिया कोनीँ फेरा ॥
छोरी बोली आ ले
रसमड़ी निभा ले
फेरां सारु नीँ तो भेज दे बापू तेरा॥
[10]
ऐक सी सकल री ही मा अर बेटी ।
फ़ुटरापै में कोई नीं ही जाबक हेटी ॥
आयो जणां जुवाई
करग्यो बो दुवाई
मा नै सागै लेग्यो, घरां रै’गी बेटी ॥
[11]
जाबक ई भोळो हो बापडो अल्लाद्दीन ।
कूकतो फ़िल्म में देख दर्द आळा सीन ॥
आई मुकळावै री घडी
बीनणी बीं री रो पडी
बोल्यो छोडो बपडी नै म्हैं नी ईंरो बीन ॥
[12]
ऊपर सूं नीचै तांईं ऐकसा हा मिस्टर सपडा।
डाडा जंचता जणां पै’रता नूआं-नूआं कपडा॥
मावडी मळ उतारिया
बण पेट में उतारिया
घाल्या जियां पाछा आग्या खाया जका बडा ॥
[13]
पान खाय’र रमेसियै लाल कर लिया होट ।
घर आळी देख’र बोली ओ जी थानै फ़ोट ॥
पै’ली कसर ही आ’ई
अब लागो हो लुगाई
ल्यो पै’र ल्यो भलांई अब तो ओ पेटीकोट ॥
[14]
लूंठा पै’लवान हा मिस्टर भूंडा राम भभूत ।
हरा नाख्या बां कुस्ती में पै’लवान मजबूत ॥
करता जणां बडाई
आंख काढती लुगाई
डरता होळै सी पैंट में कर देंवता लाई मूत॥
[15]
गांव में स्सै सूं हुंस्यार हो सरपंच जी रो छोरो ।
आगे रेंवंतो जद होंवतो कोई मंत्री जी रो दोरो ॥
कईयां नैं फ़ंसावंतो
कईयां नै मरवांवतो
काढ्यां बिनां डी’ल में कोई छोटो-मोटो मोरो ॥
[16]
बापू बोल्या बोट पडै़ घाल’र आ रै ।
मोड़ो हुवै खेत नै जल्दी कर जा रै ॥
ढोलकी खनै जद गया
पतळा हा तिसळग्या
खुद पड़्या मांय अर बोट रेग्यो बा’रै ॥
[17]
गोष्ठी री बै’स में इस्सी लाम्बी बधी बात ।
कै ताण मारियां ई नीं सुळझी आखी रात ॥
आखतो हो सब्बळियो
सिंझ्या गाडी चढ लियो
निवड़ण सूं पै’ली दे आयो रूणीचै री जात ॥
[18]
झब्बियै री लुगाई ही बोलाक बेजा ।
सामने आळां रा खाय जावंती भेजा ॥
घर में रेवंतो नी कोई
बापडी़ पीवै कीं रो लोई
छात माथै चढ़ बा गाया करती तेजा ॥
[19]
झिंडियै री डीकरियां पतळी ही जंचा’र ।
धरियोडी हुवै जाणै सांगरियां पचा’र ॥
ऐक-ऐक कर’र
सै भेळी कर’र
तूळ्यां आळी पेटी में सुवावंता जंचा’र ॥
[20]
डाढी पींवता दारू मिस्टर तुक्कल भल्ला ।
आखै दिन होयोडा़ रेंवता चूंच अर लल्ला ॥
ऐक दिन नीं टळता
नीं मिल्यां बै बळता
टिकता तो बस पड्यां मैडमजी रा खल्ला ॥
[21]
बाज़ आळी खाली सीसी मांगी पाडोसी ।
थै तो रोज पीओ खाली तो पडी़ होसी ॥
घर में तो आत कोनी
आग्या तो बात कोनी
ल्याओ मंगाओ,खाली करां जल्दी सी ॥
[22]
ऊंदरा बोल्या दारू पीवां पै’लै तोड़ री ।
दुनियां में होवै कोनी ईं रै जोड़ री ॥
छोड़ां कोनी आ दुआई
छोड़ ई देस्यां लुगाई
लुगाई ई हुवै बेलियो ज़ड झोड़ री ॥
[23]
हथकढ री बोतल गटक’र डोल्यो ।
चांद धरती माथै उतरसी बोल्यो ॥
ऊंदरी बोली थम
साळा कुत्ता जम
खल्ल खळका चांद भेजूं अण्तोल्यो ॥
[24]
बिलडी़ तो ही कोनीं हा फ़गत ऊंदरा ।
दारू आळै ठेकै में मोटी मोटी तूंद रा ॥
दिन मॆ पस्त
रात में मस्त
रोब सूं खांवता होटल में लाडू गूंद रा ॥
[25]
आभै में जावण रो भी है ऐक रा ।
गंगलै गप्पी ठोकी ऐक दिन आ ॥
लौग बोल्या चाल सागै
धरती माथै जी नी लागै
बोल्यो चालस्यां,पै’ली बणाओ चा ॥
[26]
भोत जोर रो गप्पी हो गंगू जी रो गौपाल ।
कै"योडो पाछौ नीं लेंवतो चावै कैवो चौपाल ॥
ऐक दिन अड़ग्यौ
कोई नीं रड़क्यौ
बोल्यो अमेरिका में ही है,अठै कठै है भोपाल ॥
[27]
तीरथ सारू गई दादी बूढ़ळी ही भोळी ।
लुळ’र नहाई गंगा जी में खुलगी चोळी ॥
दीखै हो अंग आधौ
साम्ही तकै हो दादौ
बोली परनै फ़ुरौ,सरम सूं होगी मैं धोळी ॥
[28]
परलीकै रो पट्टू जी पटियाळै सूं ल्यायो घोन ।
ऐक दिन अंट’र होई खड़ी तोड़्यौ नी बण मोन॥
बोली चरदी नीं तेरा
जी नीं लगदा मेरा
किन्नै दिन होगे आया नीं मम्मी जी दा फ़ोन ॥
[29]
धूपड़ चंद जी कवि हा सांतरा ।
गीत गाया करता भांत-भांत रा ॥
सफ़लता रो राज
ठाह लाग्यो आज
सुणा’र बै भाज जांवता आंतरा ॥
[30]
हज़ामत करावण गयौ डेमलौ डांगी ।
लम्बाई देख हज़ाम निसरनी मांगी ॥
ऐक ऐक पेडी़ चढ़तौ
बोल्यौ बो रड़भड़तौ
राम देखौ,ईं रै कठै जा’र भौडकी टांगी ॥
[31]
दारू रा सौखीन हा भूतड़ जी पडि़हार ।
इण नसै लारै खो लियौ बां परिवार ॥
गळग्या जद गंडा
लेय’र झौळी डंडा
माळा फ़ेरण लागग्या जा’र हरिद्वार ॥
[32]
दारू पींवतां जद कीं राख देवंता ढक्कण में ।
ऊंदरा मज़ा लेंवता सेठजी रै ईं लक्खण में ॥
सेठाणी भौत समझावै
मक्खण क्यूं नी भावै
ऊंदरा बोल्या.बी.पी.रो रोग होवै मक्खन में ॥
[33]
फ़ोटू खैंचावण स्टूडियो गई चिमली ताई ।
सामनै बैठा,फ़ोटोग्राफ़र मींची आंख डाई ॥
ताई बठै सूं हटगी
फ़ोटू खातर नटगी
बोली,मरज्याणा पै’ली बण राखीबंद भाई ॥
[34]
सै’र री ही बीनणी पै’ली बार देखी डाग ।
झूट में ही डागड़ी मुंडै ऊपड़ै हा झाग ॥
बोली फ़ूट्या करम
ऊंटणी है बेसरम
दोपारां देखो पेस्ट करै,लागौ ईं रै आग ॥
[35]
ज़हाज़ री सवारी सारू अंटग्यौ लूधो सहारण ।
रिसाणौ होय भींतां में लाग्यौ टक्कर मारण ॥
लुगाई नै आई रीस
खल्ल टेक्या बीस
बिना ज़हाज़ ई उडग्यौ रोही में भैंसा चारण ॥
[36]
बिना बीज धरती माथै पैदा नीं होवै कोई चीज ।
गुलाब जामण में भी होया करै छोटो सो बीज ॥
धणी री सुण पाखती
लुगाई बोली आखती
तो जाओ बीज देओ खेत में कूलर-पंखा-फ़्रीज ॥
[37]
मैडम रै पग में पड़गी मजरोड़ ।
डागधर सूं संध्यौ नीं ऐडी रो जोड़॥
काळियै रै होगी फ़स्सी
झाल’र हाथ में कस्सी
खोद न्हाखी बीं भादरा आळी रोड़ ॥
[38]
मैडम रै चढग्यौ मलेरिया बुखार ।
काळू ल्यायौ डागधर जी नै बुला’र॥
दागधर देखी नाड़
पछै पाई बीं झाड़
मैडमजी नैं राखौ माछरां सूं लुका’र॥
[39]
ऐक दिन ,ऐक ऊंदरो अंटग्यौ गाम रो ।
बोल्यो खाऊं तो खाऊं अचार आम रो ॥
ऊंदरी बोली ओ बाबू
मन नै राख तूं काबू
बिल में कींयां लगै मोटो रूंख आम रो ॥
[40]
गांव मे डाकौत हो नांव हो दौगड़ ।
गाय मिली दान में लारै हो टॊगड़ ॥
रूई टाळ भावै नीं
चारौ कोई खावै नीं
छेकड़ नीर दियौ गूदडां रो लोगड़ ॥
[41]
गंजो हो थाणेदार पण राखतौ कांगसी ।
मन ई मन उपाड़ लेंतौ सिर में मांग सी॥
चोरां रै होगी मोज
कांगसी देंता रोज
नीं ले जांवतां जकां रै मारतौ डांग सी ॥
[42]
गंगाजी में नहावण गया गंगू जी गंगोटा ।
गऊघाट माथै देख्या बां पंडा मोटा-मोटा ॥
म्हैं ई बणतौ पंडौ
जे होंवतौ् म्हैं रंडौ
ब्या कर’र घर आळां के काढ लिया गोटा ॥
[43]
कोई फ़रक नीं हो कागलै अर टोनियैं रै मासै में ।
और काळौ होग्यौ नौकरी करतां-करतां बासै में ॥
कपडा़ जद पै’रतौ धोळा
लुगाई करती भोत रोळा
थै तो इयां लागौ,जाणै मकौडो बड़ग्यौ पतासै में ॥
[44]
सीख जिसौ पतळौ हो सोटियौ सपडौ़ ।
ओपतौ कोनीं डील माथै कोई कपडौ़ ॥
ऐक दिन आई रीस
गाभा पै’र लिया बीस
चालतां ई पड़ग्यौ सांस आळौ लफ़डौ ॥
[45]
ऊंदरी बोली ऊंदरै सूं बचन सुणौ बांदी रा ।
चालौ आपां धनवाद करां महात्मागांधी रा ॥
टूट जांवता दांत
गळ जांवती आंत
कागज़ री जाग्यां जे नोट चाल जांता चांदी रा ॥
[46]
दारू पी पा सेठ बोतल कर दी जरू बंद ।
खुली नीं ऊंदरां सूं घसग्या दांत आळा संद ॥
छेकड़ सोफ़ी ई सोया
पण सारी रात रोया
मरै कोनीं सेठ,मरज्याणौ साळौ कुत्तौ गंद ॥
[47]
सेठजी रै बाव सुरियो आधी सी रात नैं ।
ऊंदरौ-ऊंदरी लडि़या , पकड़ ईं बात नैं ॥
छूट्यौ है बम्ब गोलौ
नीं,कोई और है रोळौ
ओबामा सूं बातडी़ करस्यां परभात में ॥
[48]
दारू पी ऊंदरा बोल्या मिनकी नै कूटस्यां ।
भेळा होय सगळा आज रांड माथै टूटस्यां ॥
चढी जद विसकी
फ़ूंक बांरे खिसकी
पकड़ लिया तो फ़ेर आपां कीकर छूटस्यां ॥
[49]
बिल्ली ही फ़ूटरी ऊंदरै रो मन डोलग्यौ ।
खन्नै जाय’र बो आई लव यू बोलग्यौ ॥
बिल्ली होई राज़ी
बोली,जा रे पाज़ी
तन्नै के खाऊं तूं तो म्हरौ रूप तोलग्यौ ॥
[50]
मायड़ भाषा बिना क्यांरी है जियारी ।
कोई पूछौ नीं आय’र हालत म्हारी ॥
दूजा दळै है मूंग
म्हारै बतावै गूंग
खोस’र नौकरियां मोकळी सरकारी ॥
[51]
दिल्ली-जयपुर भेजै अंग्रेजी में राज रा फ़रमान ।
म्हानै तो भाईडां कोनी ठीकसर हिंदी रो ई ग्यान ॥
जामां गूंगा ई
मरां गूंगा ई
ठाह नीं कद मिलसी मायड़ भाषा में बोलण रो विधान ॥
[52]
आपणै लौकराज री देखौ कारसतानी ।
नेता बोट तो मांगै बोल’र राजस्थानी ॥
जनता सूं करै वादा
संसद में बणै दादा
मानता री बात माथै ताकै बगलां खानीं ॥
[53]
गोगो जांभौ रामदेव है राजस्थानी ।
जकां नै धौकै समूळा हिंदुस्तानी ॥
पेट पिलाण भाज्या आवै
राजस्थानी भजन गावै
संसद क्यूं टाळै भाषा राजस्थानी॥
[54]
पंछी बोल्या आपां बोलां हां आपणी भाषा ।
आं राजस्थान्यां रै पड़ रैया है देखौ सांसा ॥
सब कीं जाणतां
देवै नी मानता
साठ साल सूं आं बापडा़ नै मिलै है झांसा ॥
[55]
त्रिपाठी सर ढाळ नै क्यूं बोलै है ढाल ।
म्हे नीं बोलां तो कूट कूट काढै खाळ ॥
भाषा बिन्यां तो दुरगत है
गूंगां री ई कोई गत है
मायड़ भाषा में क्यूं नी पढावै ऐ हाल ॥
[56]
गा ब्याई   टोगडियौ ल्याई   च्यार बिलांत रो ।
दूवणियै रै झटको मारतौ चौखो सो लात रो ॥
गा रै चौफ़ेरै झूमग्यो
दूध    सारो     चूंघग्यो
सिंझ्या पै’ली बणग्यो बो गौधो ऐक जात रो ॥
[57]
दैनिक अखबार काढ्यौ मिस्टर तरेश शरमा ।
फ़टाफ़ट छाप लिया  सात आठ रंगीन फ़रमा ॥
सलाह तो नेक ही
मान्यो नी ऐक ही
अजकाळै चुगतो फ़िरै लाई गाडै लारै नरमा ॥
[58]
लूंठा पै’लवान हा मिस्टर भूत मलजी भूतिया ।
हरा काढता लूंठां नै कै’ परा पै’लवान ऊतिया ॥
करता खुद री बडाई
आंख काढती लुगाई
डरता लाई कर देंवता झट पेंट में ई मूतिया 
[59]
टीको काढ गमछो टांग गाभा पै’रता नूआंनुक ।
ब्यांव  खातर  रैंवता       पंडत जी  हरमेम बुक ॥
रासण ल्यांता कोनीं
रोटी ई खांता  कोनी
काम धिका लेंवता बै खा परा घरआळी रा डुक ॥
[60]
मिनकी रो ब्या मंड्यो    जानी आया ऊंदरा ।
बोल्या , खावां तो खावां   लाडू म्है गूंद रा ॥
बिल्लां रो डर दिल में
सोया सगळा   बिल में
घराती मांगण लाग्या जद नाप बांरी तूंद रा ॥
[61]
गुळसंटै जेडौ मीठौ बोलतो नंदू आळौ फ़त्तौ ।
बातां में रस घोळतौ बो      सेत सूं भी बत्तौ ॥
करतो जणां हताई
हों जांवती अबखाई
राफ़ां ऊपर लाग जांवतौ सेतमाख्यां रो छत्तो ॥
[62]
जोर रो कवि मच्यो खदेसियो खदाणी ।
कविता में कैं’वतौ बो लूंठी सी कहाणी ॥
काढ्तो राग बो ऊंची
राफ़ां फ़ड़तौ   समूची
सुणन आळा फ़ेर जांवता मुंडै में मधाणी ॥
[63]
फ़ूसियै रा झींटा झाल’र बोली ताई ।
लाडी तूं क्यूं इत्ती आ जट है बधाई ॥
बाळ’र ऐक झांपो
लगा दिन्यो लांपो
भाई री टाट    गोडो सी काढ ल्याई ॥
[64]
पै’ली बार पान खा्य’र आयो जणां रामलो ।
ईसकै री आग में बळग्यो देख’र श्यामलो ॥
जा’र लारली गळी
पूरी कर ली रळी
मुंडौ कर लियो लाल होट चाब’र सामलो ॥
[65]
नूंओ नूंओ परकासण खोल्यो भाई सब्बूजी सांखळा ।
पै’ली पोत छापण ढूक्या    कागद जी रा  डांखळा ॥
छापै कींयां पोथी
बातां तो ही थोथी
गुड़गांवै सूं उडग्या चुपचाप      लगा लगू’र पांखळा ||
[66]
पंडत जी  रो ,  खराब होग्यौ लेपटोप ।
अब कींयां सुणै , लुक’र संगीत पोप ॥
राजी होय बोली मैडम
खुद    छेडां    सरगम
म्हूं बणूं गोपी थारी अर थे बणौ गोप ॥
[67]
सागै बिना चालै नीं   जूण बात है नी टोप ।
चार्जर बिनां  जवाब देग्यौ     देखौ लेपटोप ॥
थे ऐकला ई फ़िरो
दिखै  बठै ई टिरो
हो फ़िस्स,पण समझौ खुद नै मुगलां री तोप॥
[68]
बीनणीं रै सोख चढ्यौ सीखूंगी कम्प्यूटर ।
खरीद लेपटोप र राख लियौ ऐक  ट्यूटर ॥
ट्यूटर रै आयगी ही तार
बळ भुजियौ हो भरतार
नौकरी छोड’र बणग्यौ बीनणीं रो क्यूरेटर ॥
[69]
क्यूं मचकावै बावळी सारै दिन ओ लेपटोपियो ।
जा मांज’र ल्या पीतळ आळौ काळो है टोपियो ॥
पै’ली दूह’र ल्या गावडी़
पछै रांध’र ल्या चावडी़
खेत सूं आंता ई गाळ काढसी सुसरो थारो भोपियो ॥
[70]
आखै दिन घर सूं नीं निकळतौ पप्पू आळौ पोपियो ।
बीनणी ई सारै बैठती,दायजै में आयौ हो लेपटोपियो ॥
नौवैं मईनै जाम्यो टाबर
जाबक   लेपटोप बराबर
गळी आळा बोल्या,अबकै तीनां रो मेळ चौखो ओपियो ॥
[71]
हिलमिल होळी खेली      ऊंदरां दिखायो हेत ।
फ़ूल तोड़ ल्याया लाल-लाल जद गया खेत ।
रगड़ बणायो रंग
सागै    घोटी भंग
मिनकी रै डर सूं पीग्या भांग   रंग समेत ॥
[72]
सिर हो मोटो पण   पतळी ही कड़तू ।
ब्या होयो नीं अर कुंआरो रै’ग्यो पड़तू।
बुडापै में लाग्यो नाको
बोल्यो ऊंचो कर बाको
देखता रै’ईयो अब बांध देस्यूं भड़तू ॥
[73]
नरेगा रै कारड़ में चिपकावणी ही फ़ोटू !
मोटी जोडा़यत साथै कोड में बैठ्यो कोटू ।
फ़ोटोग्राफ़र गिण्या तीन
कैमरै में आयो नीं सीन
बो बोल्यो बाबै नै भेज तूं उठज्या छोटू ॥
[74]
रीसां में बोल्यो ऐक दिन खेमलो खिलाडी़ ।
दारू पीवण नीं देवै रांड आयगी अनाडी़ ।
गया नीं    होटल
खोली नीं बोतल
इयां तो भूखा ई मरजासी बापडा़ कबाडी ॥
[75]
ऊंदरै भेज्यो ऊंदरी नै        ऐक दिन ई मेल ।
धरती माथै तो है कोनी थारै जिसी फ़िमेल ।
ऊंदरी बोली     रुक
पै’ली देख फ़ेसबुक
बठै लाधसी  लाडी म्हारै जिसी रेल री रेल ॥
[76]
ऊंदरी बोली कार ल्याओ चढूं कोनीं बस में ।
जी घुटै म्हारो     भीड़-भाड़ अर भारी रस में ।
ऊंदरो बोल्यो धिक्कै कोनीं
तूं म्हारै अब टिक्कै कोनीं
थारै जिसी तो होवणी चाईजै     सरकस में ॥
[77]
ऊंदरी ही पेट सूं डागधर जी करी सोनोग्राफ़ी ।
पेट में दिख्या बच्चिया अणगिणत अर काफ़ी ।
करो ना रीस
लेऊं नीं फ़ीस
म्हारै कोनीं इत्ता पालणियां    म्हनै देवो माफ़ी ॥
[78]
देखो जमानै में फ़ैसन      बदळ्या है दस्तूर ।
ऊंदरी बोली ऊंदरै सूं     आपणो काईं कसूर ।
देखो टींगर-टींगरी
फ़ैसन में फ़ींगरी
हाथै फ़ाड़-फ़ाड़ पै’रै आपरा पै’रण आळा पूर ॥
[79]
ऊंदरो बोल्यो ऊंदरी सूं      सुणै है काईं स्याणी ।
आज तो लड़ मरिया आपणां सेठ अर सेठाणी ॥
बात कोनीं छोटी
पकै कोनी रोटी
ऊंदरी बोली डरो ना होटल सू आसी रासण पाणी ॥
[80]
ऊंदरी जाम्यो ऊंदरो  ऐक सकल मिलै बिल्ली सूं ।
काईं बतावै दाई ऊंदरै रो फ़ोन आयो दिल्ली सूं ।
सतगुरू तेरी ओट है
ऊंदरी में तो खोट है
लाई ऊंदरो कींयां बचसी जग में उडती खिल्ली सूं ॥
[81]
खेमलै रै जंचगी      खेलण सारू होळी ।
दिनूगै उठतां ई खा ली भांग री गोळी ।
नसै में पडी़ नी ठा
लुगाई पै’रा दी ब्रा
फ़ेर घूम्यो सारै    दिन पै’र परो चोळी ॥
[82]
गैर रमण सारू निकळ्यो नंगियो नंग ।
गाबा खोल टाबरां करियो नंग धड़ंग ।
आई जणां लाज
धोरै चढ्यो भाज
फ़ेर बजायो बण आंख मींच’र चंग ॥
[83]
ऐसकै भड़तू खेली होळी बडी़ तेज ।
कोड-कोड में बण रंग दियो अंगरेज ।
थे तो करियो तंग
म्हे गेरां खाली रंग
रंगीज जा नीं तो बणा लेस्यूं मिसेज ॥
[84]
खड़कू खोडि़यै री भू भी खोड़ली ।
सुसरै नै रंगण लारै-लारै दौड़ली ।
बूढियै नै पटक
रंग दियो चटक
रीसां बळती सासूडी़ चूडी़ फ़ोडली ॥
[85]
दारू रै नसै में     भुणियों बेगो आयो घरां ।
बोल्यो- आज तो      किणीं सूं ई नीं डरां ।
दीखी जद लुगाई
पाछी दौड़ लगाई
बोल्यो आज फ़ेर मरस्यां जियां रोज मरां ॥
[86]
भांग रै नसै में हो भूंड मल भंडार ।
लुगाई घरां ल्याई पालणियों मंडा’र ।
म्हारै साथै खेलो होळी
बोल्यो,ना ऐ नार भोळी
थांनै रंगां तो कूटै बा म्हारली रंडार ॥
[87]
ऊंदरां मिल विचारी होळी रमण री ।
मिनकी तकाई बां हलवाई झमण री ।
देखी बीं री आंख लाल
हाथ सूं छूटगी गुलाल
फ़ेर तो खबर ई आई ऊंदरा गमण री ॥
[88]
होळी खेळण री ऊंदरां रै आई दिल में ।
खेलां तो खेलां    मिल’र अबकै बिल में ।
ल्याया पिचकारी
मार’र टिचकारी
बोल्या-दारू भी तो ल्याओ महफ़िल में ॥
[89]
गुड़गांवै री ऊंदरी अर ऊंदर हो दिल्ली रो ।
शेर नै मारता    पण डर तो हो बिल्ली रो ।
ऊंदरी बोली होळी है
मिनकी पूरी धोळी है
रंगो तो ठाह लागै आज      शेखेचिल्ली रो ॥
[90]
आओ बेलियो छोडो सगळी राम्पारोळी ।
भेळा होय आपां सगळा मनावां होळी ।
कविडो़ तो नटग्यो
खड़्यै पगां अंटग्यो
बोल्यो-पै’ली बताओ कुणसो देस्सी न्योळी ॥

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...
इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.