कागद राजस्थानी

रविवार, 20 मई 2012

गीरगडी

 लोक री बात
==========
गीरगडी भई गीरगडी ।
सासू छोटी बहू बडी ।।
सासू जाम्यो गीगलो ।
बहू बेटा तूं दही बिलो ।।
माखण काढ मोकळो ।
सासू देस्सी ढोकळो ।।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...
इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.