कागद राजस्थानी

रविवार, 20 मई 2012

एक राजस्थानी कविता

ऊंदरी री मनस्या
===========

ऊंदरी बोली ऊंदरै सूं देखो जी
म्हां सूं अब
नीं कुतरीजै
जाडी-जाडी जीन्स
विंड चिटर आळा कोट
आज ई खबर लागी है
खबर ई जबर लागी है
फेर पड़सी अबकै
ऊंदरगढ में
सिरैपंच आळा बोट
अबकै तो स्याणों
सीट है लुगायां री
करो नीं ईं खातर
अबकै म्हनै प्रमोट !

ऐक बार जे
कुरसी हाथ आयगी तो
गांव में गोगा गुवाद्यूंगी
आपणै टाबरां रा बिल
नरेगा में खुदवाद्यूंगी !

बिल बणावणों आपणों
डावै हाथ रो काम
माणसिया सिरैपंच तो
कागदां रा छपावंता
फरजी ई बणांवता
म्हैं पूरै गांव में
असली बिल खुदवाऊंगी
बां बिलां सूं
घर-घर जाऊंगी
पछै देख्या थां खातर
कित्ता न कित्ता
माल मलीदा ल्याऊंगी ।

सगळा नेता अर अफसर
थांन्नै बोल सी ब्रोदर
मोटोड़ा बोटां में
राड़-लड़ाई-सोटां में
थारी ई चालसी चौधर
थाणां चालसी
आपणै हुकुम पर
देख-देख सगळा
दुसमी जासी ओदर !

सिरेपंच बण्यां पछै
देख्या म्हारा चाळा
रांड मिनकी नै
गंडका सूं पड़वाऊंगी
पछै सगळै गंडकां नै
देऊंगी देस निकाळा
फेर देख्या थे
थांन्नै नितगी पैराऊंगी
नोटां आळी माळा !

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...
इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.