कागद राजस्थानी

सोमवार, 16 जुलाई 2012

दूहा

घर रो दूधज डेरियां , टाबर टोपो नाय ।
कंजूसां रै राज में , छाछ मांग कै ल्याय ।।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...
इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.