कागद राजस्थानी

सोमवार, 16 जुलाई 2012

अमूंझण्यां

*पांच अमूंझण्यां*
1.
दिल रो मरीज
लोगां नै कैवै
मुझे आप कहो
दिलावर प्लीज !
2.
घरै कोनीं
चीकणैं रो छांटो
नाम मक्कण राख
हो रैयो हैं आंटो !
3.
नाम धर दियो
मायतां धनजी
पल्लै कोनीं
बापड़ै रै
एक पंजी !
4.
नाम तो है शेर
पण ऊंदरै नै देख
मूत करतो
नीं लगावै देर !
5.
नाम राख सुंदर
हो रैयो है टेडो
नासां में बगै
लप लप सेडो !

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...
इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.