कागद राजस्थानी

शुक्रवार, 9 अगस्त 2013

*गई दियाळी*


गई दियाळी
आग्या बै ई सागी दिन
भूख सूं भच्चीड़ा आळा !

नत्थू धोकी दियाळी
बपराई मिठाई
बजाया पटाका टाबरां
लिछमी जी री फोटू
पूजा री सामगरी
फोटू सारु परसाद
ईं सगळै जुगाड़ सारु
सेठ जी सूं उधारी
लारली उधारी चुकावण
बैंक रो करजो !

तळपट मिलावंता
रात निकळगी
आग्यो अन्नकूट
घर मेँ
अन्न होवै तो कूटै
गरीबी गोरधन होयगी
पूजी छेकड़
रात भळै ढळगी
साम्ही दिखै भईया दूज


बाई आसी
बाई री धोती
भाणियां रा झबला
कठै सूं आसी ?

गई दियाळी
छोड़गी कळझळ
बळ ना नत्थू
थम अभी
होळी भी आसी !

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...
इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.