कागद राजस्थानी

शुक्रवार, 9 अगस्त 2013

मूघीवाडै़ रा दूहा

आटो कमती दाम में, बांटो हो सरकार ।
कठूं लगावण बापरै, ओ भी सोचो यार ।।
लूण मिरच अर लाकडी, मांगै मोटा दाम ।
तेल घिरत अर प्याजिया ,धोकण जोगा नाम ।।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...
इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.