कागद राजस्थानी

शनिवार, 21 जनवरी 2012

सरदी रा दूहा

*सरदी रा सात दूहा *
मा बणावै लूपरियो, सागै सूंठी चाय ।
गूदड़ ओढ्यां गटकल्यां, डाडा आवै दाय ।1।
धंवर धारी धूजणी , खोटी खावै खाल ।
मा औढावै गूदड़ा , ढाबै सगळी चाल ।2।
 
ताती ताती मूंफळी , भेल खावां मिठाण ।
रातां काढां आंख सूं , आवै नीं ओसाण ।3।
तिल सकरिया'र पापड़ी, घेवर फीणी दूध ।
मायड़ हाथां खायगै , गूदड़ लेवां रूध ।4।
काचर मूळा भेळगै , साग बणावै माय ।
बाजर आळा रोट में, गुड़ घी आवै दाय ।5।
गुड़ री रांधै राबड़ी , थाळी मेँ दै घाल ।
सातूं सुख जाओ आंतरा , छोडां स्सै सुआल ।6।
सरदी आई सांतरी , खायो लागै अंग ।
ओच्छा राख्यां गूदड़ा , होस्यां बेजा तंग ।7।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...
इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.