कागद राजस्थानी

बुधवार, 10 अक्तूबर 2012

नींद री कुचरणीं


1.
बिछावणों बोल्यो
सुण कुळछणीं नींद
म्हारै बिन्यां
थूं किणीं नै भी
आ नीं सकै
म्हे बिछां जद ई
थूं बावड़ै

नीं तो थूं कद
मिनखां नै नावड़ै !

नींद बोली

खुद रौ घणों नादीद
मत ना कर दब्बूड़ा
थंन्नै तो धाप्योड़ा लौग
मस्ती में खूंदै
म्हैं आंख्या फिरूं जद
कोई थां गूदड़ां रै नीं अड़ै
लोगड़ा कांकरां में ई
मूंदै माथै पड़ै !

2.

नींद बोली
म्हैं आऊं जद ई
थे आओ
नीं तो थां सुपनां नै
कठै ठोड़ ?

सुपना बोल्या

थूं आवै जद ई तो
म्हे झूठा पड़ां नुगरी
इणी खातर लोग
म्हानै खुली आंख्यां देखै
लोग थांरो डोळ जाणैं
बै मान्नै
खुली आंख्यां आया
सुपना फळै
नींद आळा टळै !

3.

नींद बोली
देख रे गूंगा जीवड़ा
म्हारा खटका
म्हैं आऊं तो
थन्नैं चैन आवै
नीं तौ
थूं कद सुस्तावै ?

जीव बोल्यो

जावण दे ऐ बावळी टाट
थांरै भरौसै चैन नीं
चैन रै भरोसै थूं आवै
चैन नी होवै तो थूं
मिनख रै नेड़ै नीं फटकै
पूरी रात पड़ी रांड
आंख्यां में लटकै !

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...
इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.