कागद राजस्थानी

बुधवार, 10 अक्तूबर 2012

पंचलडी़

इयां ना समझ्या थे डरग्या बै ।
भूखा हा बापड़ा मरग्या बै ।।
आप तो जीमो सा बड़ भीतर ।
साग रोटी बणा'र धरग्या बै ।।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...
इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.