कागद राजस्थानी

रविवार, 21 अक्तूबर 2012

डांखळो

डांखळो
=====
पैलवान हूं बोल्यो बामणां रो छोरो ।
जीम्यां पछै ई खा लेऊं खीर रो कटोरो ।
        मिजमान नै आई रीस
         जांवतै नै दी बगसीस
मोटो बणावै रामजी काढण आळो मोरो ।।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...
इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.