कागद राजस्थानी

रविवार, 21 अक्तूबर 2012

कुचरणीं

=====पै’ली अर अब =====
पै’ली
आदमी ढूंढतो
भगवान नै
अब
भगवान ढूंढै
आदमी नै !

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...
इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.