कागद राजस्थानी

बुधवार, 10 अक्तूबर 2012

तीन कुचरणीं साग-पात री


(1)
मिरच बोली
कित्तो भभकै है रै थूं
मरज्याणां कांदा
लोगां नै रुआ'र छोडै
इणीं खातर थूं
नित रो रगड़ीजै

कुंडी-घोटां सूं
सिल्ला-लोढै सूं !

कांदो बोल्यो

म्हनै कोई काटै तो
बडै बडां नैं रुआणूं
म्हैं तो
ढक्योड़ो-ढूम्योंड़ो फिरूं
लोग म्हांरा गाभा खोल
हेत सूं बरतै
थूं तो रांड नागी फिरै
अर टाबरां नै कुकाणै
ठाह नीं लोगां रो
कांईं कांईं बाळै !
(2)
भिंडी बोली
थूं कित्तो चालू है रै
कमीण आलूड़ा
जनानो देखै न मरदानो
हरेक सागै
भायला घाल लेवै
बादी रो डूजो ना होवै तो !
आलू बोल्यो
देखी कोनीं थंन्नै
हूर री परी नै
इक्कलखोरड़ी बळै है थूं
थांरै साथै कुण रळै
थांरै अंग अंग में सेडो है
इणी खातर रांड
थूं ऐकली बळै !
(3)
काचर बोल्यो
जा ऐ टींढसी
थूं तो ऐकली ई जामीं
ऐकली ई मरसी !
देख म्हारो सुवाद
जग सूं न्यारो है
म्हारी चटणीं
म्हारी काचरी सिरै है
गुवार फळी सूं
म्हारा भायला नामी है !

टींढसी बोली

जावण दे रै काचरड़ा
थांरी चतराई देख्योड़ी है
इत्तो क्यूं दहाड़ै है
थांरो एक बीज
नो मण दूध फाड़ै है
म्हारा फोफळिया
खोपरां नै लारै बैठावै
म्हनै तो लोग काची खावै
थूं काचो होवै तो
कुण हाथ लगावै ?

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...
इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.