कागद राजस्थानी

रविवार, 28 अक्तूबर 2012

[] घडी़ []


घडी़

पडी-पडी़


घडी-घडी़


करै

टिक-टिक !
पण
कुण टिकै !

टिकै बो ई है


जको


घडी़-घडी़

धिकै

अर


धिकै बो ई है


जको


घडी़-घडी़

बिकै !

अर

धिकै ई बो ई है
जको
घडी़-घडी़ सिक्कै !

घडी़ रो काम है


चालणौ


बगत बातावणौ


जे कोई मान्नै


तो वा भला


नीं मान्नै


तो व्वा भला !


घडी़ तो


बगै

पडी़-पडी़

बगत ऊंचायां


घडी़-घडी़ !

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...
इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.