कागद राजस्थानी

सोमवार, 22 अक्तूबर 2012

<>कुचरणीँ<>



*आज़ादी-1*
अंगरेजां रो
मीँगणीं रळा'र
दियोड़ो दूध !
अब
पीओ भाया
कूद-कूद !
*आज़ादी-2*
जद तांईं
आंखां साम्हीँ है
टाबरां री दादी
नीँ मानै भू
खुद री आज़ादी !
*आज़ादी-3*
जद
होगी शादी
फेर
कठै रै'गी
आज़ादी !

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...
इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.