कागद राजस्थानी

बुधवार, 24 अक्तूबर 2012

बिरखा

बिरखा अबकै ओसरी, धर हेमाणी भेख ।
जेठै धान निपजसी, इण मेँ मीन न मेख ।।
बड़भागी है मुरधरा, बादळ करिया कोड ।
हरियल गाभा धारसी, काळ भूंडिया छोड ।।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...
इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.