कागद राजस्थानी

रविवार, 21 अक्तूबर 2012

दफ्तरी कुचरणीं

दफ्तरी कुचरणीं
===========
1.
मेज बोल्यो
परनै मर ऐ कुरसड़ी
थूं कित्ती लिगती मरै
सारै दिन मुंडो बायां
म्हारै सागै चिप्योड़ी रैवै
म्हारै माथै धर्‌योड़ी
चीजां माथै ल्याळ पटकै
थंन्नै लाज कोनीं आवै
क्यूं नीं परनै जावै ?

कुरसी बोली
जावण दे रे बडाई
डोफ्फा मेजड़ा
म्हारै कारण ई लोगड़ा
थांरै खन्नै आवै
म्हैं थांरै सारै बैठूं
जद ई थारै माथै लुळै
नीं तो बावळा
थांरै माथै छांट ई नीं ढुळै
म्हारै बिन्यां
थंन्नै ऐकलै नै कुण पूछै
थांरी तो कूड़ी बडाई है
दुनियां में सगळै
म्हारै खातर ई लड़ाई है !

2.
घंटी बोली
ओ अकड़ू दरवाजा
म्हारै साम्हीं
थांरी कांई औकात है
म्हैं बाजूं जद ई
थंन्नै खोल
लोगड़ा भीतर आवै
थंन्नै चपड़ासी खोलै
म्हंन्नै अफसर बजावै !

दरवाजो बोल्यो
थूं तो अफसर री चमची है
थंन्नै तो अफसर
आंगळ्यां माथै नचावै
म्हैं बंद रैऊं
कमरै रै भीतर होंवतै
ऊंधै-पाधरै नै ढाबूं
थांरै अफसर री
लाज ढकूं ।

3.
अफसर बोल्यो
दफ्तर म्हारै ताण चालै
म्हारै नांव ई
दफ्तर रो नांव थरपीजै
म्हारै दसकतां ई
फाइल चालै
म्हारै बिन्यां
थां बाबूड़ां नैं
कोई घास नीं घालै !

बाबू बोल्या
देख्योड़ी है
थांरी अफसराई
थांरो काम फगत
फाइल माथै
चिड़िया बैठावणों है
बाकी तो म्हे ई बतावां
आं दसकतां सूं
कांईं अर कित्तो आवणों है
थे तो फेर भी
जोड़ायत रै आ जाओ काबू
म्हे तो कोनीं
राम जी रा भी दाबू !

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...
इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.