कागद राजस्थानी

बुधवार, 10 अक्तूबर 2012

म्हे देवता


आज दिनूगै दिनूगै
म्हारी जोड़ायत साथै
नूईं धोती खरीदण माथै
म्हारी राड़ होयगी
बा बोली
म्हैं आजोआज खरीदस्यूं
थांरो डी ए बधग्यो
पूरो सात परसैंट
साड़ी चाहिजै अर्जेंट
म्हैं बोल्यो
घोषणां करतां ईं
सरकार पईसा नीं देवै
धणीं री बात मान्या करै
पति परमेसर होवै !

बा बोली
परमेसर हो तो
पधारो थांरै मिंदर
देवता तो
थांन-मकान ई
फूटरा लागै
देवता बोल्या नीं करै
पात्थर बण ऊभ्या करै
साड़ी दिराओ
थांरै सवा रिपियै रा
पतासा चढास्यां
थांरां भजन गास्यां !

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...
इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.