कागद राजस्थानी

रविवार, 28 अक्तूबर 2012

सरदी री कुचरणीं


1.
सरदी बोली
गरमी थूं बिगाड़ दी
भो मिनखां री
मिनख कर दिया
अधनागा
ना छोड्या पूरा पूर
ना चैरै माथै नूर
परसेवै सूं हळाडोब
मिनख फिरै गाणीमाणीं
घड़ी-घड़ीं मांगै पाणीं
म्हैं आई हूं तो
मिनखां में ज्यान आई है
अब मिनख खावै
गूंद मेथी रा जमावणां
छोड दिया
रोज-रोज रा न्हांवणां
चा पीवै अर सीरो खावै
ऐडी सूं चोटी पैरै गाभा
गूदड़ बिछावै सिरख ओढै
फेर दस बजे तांईं पोढै !

गरमी बोली

रैवण दे ऐ बरफां जाई
देख्योड़ी है थांरी चतराई
थंन्नै देखतां ई
मिनख नै धूजणीं छूटै
नास्यां में सेडा घुटै
काम छोड खावण ढूकै
गूदड़ां पड़्यो हाथ सेकै
मिनख हो जावै पळगोड
बुद्धि हो जावै सुन्न
आखै दिन ढक्यां भोड
म्हैं आय'र परसेवो काढ
उण री चरबी उतारूं
नित हंपाड़ो कराय
मिनख नै मिनख बणाऊं
प्याऊ खुला
पुन्न करवाऊं
म्हारै बिन्यां मिनख री
कोई गत कोनीं ।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...
इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.