कागद राजस्थानी

बुधवार, 31 अक्तूबर 2012

घेसळो

काको ल्यायो काकड़ी
काकी खा गी आम
काके ठोकी
डांग री
पीँपै रो
खुलग्यो ढक्कण
भाईड़ो दर्जी बुलाओ रे
गन्नै रो रस काढां!

[कागद]

[कागद]

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...
इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.