कागद राजस्थानी

बुधवार, 10 अक्तूबर 2012

गूंगा-स्याणां


गूंगां रै घर में स्याणां
स्याणां रै घर में गूंगा
लाध सकै
गूंगां बताय'र नीं जामै
तो स्याणां कै'र नीं थमै

आ भी तो हो सकै
गूंगा स्याणां हो जावै
स्याणां हो जावै गूंगा
कुण थामै !

अजकाळै

गूंगा कम
स्याणां पण जादा
गूंग खिंडावै
गूंगा री गूंग
कुण ढकै
स्याणां तो
खुद उघाड़ै-ढकै
आपरी गूंग !

अजकाळै

सगळा स्याणां है
डोढा स्याणां
कागलै री भांत
इणीं खातर
कागला नीं दिखै
सराधां में कागोळ तांईं !

आज

इस्सो आदमी नीं लाधै
जको कदै ई नीं पादै
आज पण आदमी
खुद रो पादो
सुवादो बतावै
दूसरां री बगत
नाक चढावै
खुद स्याणां
अर
दूजां नैं गूंगा बतावै !

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...
इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.