कागद राजस्थानी

सोमवार, 22 अक्तूबर 2012

* नेता जी *


नेता जी
गऊसाळा पूग्या
ढांढां रै
ठाण सारै जाय'र
बोल्या
परनै हो नीं गावड़ी !

कीँ म्हानै ई
चरण दे डावड़ी!

गा बोली
अरे ओ राखस
क्यूं आयो है
धर नेता रो भेस
म्हारै चारै सूं
किँयां धापैला
जद तूं नीँ धाप्यो
चरगै सारो देस !

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...
इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.