कागद राजस्थानी

बुधवार, 10 अक्तूबर 2012

कागला पटकै चांच


कागला खावै भुआंळी
मल्टीस्टोरी कोठ्यां माथै
डब्बा बंद आं घरां सूं
कोई नीं झांकै आभै में
कागलो पटकै चांच
सातवैं मालै री
पाणी आळी टंकी माथै-
दिखूं तो दिखूं कियां
कोई प्रीतम प्यारी नै
देऊं तो देऊं कियां
बटाऊआं रो संदेस
ना मंढाओ चावै
सोनै में चांच
ना जीमाओ चावै
घी-खांड रो चूरमो
पण दिखो तो सरी
थे तो भूलग्या
म्हैं तो निभाऊं
म्हारो धरम !

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...
इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.