कागद राजस्थानी

बुधवार, 10 अक्तूबर 2012

दूहा

00000
राज चलावै सोनिया, देखै है सरदार ।
मंत्री भूंसै रोब सूं, कोई न जिम्मेदार ।।
मनमोहन थारो राज, कोजो घणो खराब ।
धरमी खावै लाठियां, गुंडा मुंडै आब ।।
चमचा चूसै चासणी,नेता खावै माल ।
जनता कूकै गूंग में, बोलो सतश्रीकाल ।।
गुंडा बैठ्या राज मेँ, पूरा लेवै ठाट ।
जनता मांगै रोटियां, फोड़ण भाजै टाट ।।
कुरसी बैठ्या चोरटा,धर नेता रो भेस ।
नोट कमावै देसड़ै, मेलै जाय विदेस ।।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...
इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.