कागद राजस्थानी

रविवार, 21 अक्तूबर 2012

भणाई री कुचरणीं

भणाई री कुचरणीं
============
1-

कॉलेज बोल्यो
भोत भूंडो है रे स्कूलड़ा
थारै में ना पूरा माठर
ना पूरा कमरा-ना भींत
टाटपट्यां फाट्योड़ी
सूगला-सेडला टाबर
कीं पैदल

कीं फटफटियां माथै
आंवता-जांवता माठर
म्हारलां रै ठाट है
सगळा सूटेड-बूटेड
कारां माथै बगै
म्हारै पूरो फर्नीचर
वाटर कूलर-पंखा
हीरो-हिरोइन जेड़ा
फूटरा पढेसरी टाबर
ऐश-अभिषेक बराबर !

स्कूल बोल्यो
घणों घमंड ना कर
थारला सगळा
म्हारै हाथां निकळ्या है
जामतां ई कुण सो
हीरो हिरोइन हो
म्हैं सगळां नै जाणूं
सेडो पूंछणों सिखाय
थांरै खन्नै म्हैं ई भेज्या है
कीं पढै अर कीं पढावै
जा रे डोफ्फा कॉलेजड़ा
जामणियां नै भूलग्यो
सरम कोनीं आवै !

2.
पोथी बोली
म्हैं कॉलेज री स्यान
ग्यान रो भंडार
म्हारी माया अपरम्पार
भाषा अर व्याकरण
विग्यान अर गणित
कीं नीं म्हारै सूं बारै
हजारां पेज
मोटी जिल्दां
भार अपार
उठावणियां रै
धरण पड़्यां सरै
मूरख म्हां सूं डरै
पीएचडी आळा ई पढावै !
थूं छोटी सी चौपड़ी
काचर सो कायदो
थंन्नै माठरिया पढावै
टाबरिया नित फाड़'र
झाज बणा बणा उडावै
सगळां नै ध्यान है
कायदां में किसो ग्यान है

कायदो बोल्यो
जा ऐ बडेरण पोथड़ी
थूं तो जाबक ई
सिर सूं न्हाख दी
थंन्नै पढ-पढ'र
कुण पंडत बण्यो है
जा कबीर जी नै बता
म्हंनै तो फगत ओ बता
कायदां बिन्यां
थंन्नै आखर कुण दिया
जिण ग्यान रो थूं
करै है धणियाप
ओ कायदो ई
उण रो है बाप !

3.
प्रोफेसर बोल्यो
म्हैं पी एच डी
ग्यान री पांड
बगत नीं गमाऊं
सारो दिन पढूं
बस दो घंटा पढाऊं
माठरियां सूं घणीं
इज्जत अर तिणखा पाऊं
म्हारा पढायोड़ा
डागधर-कलक्टर बणैं
माठर रो कांईं डोळ
जको म्हारी बराबरी करै
म्हारै आगै
माठरां जिस्या पाणीं भरै

माठर बोल्यो
जावण दे रै प्रोफेसरिया
ग्यान री करड़ावण
थूं तो बावळा
पढ्योड़ा नै पढ़ावै
अणपढ़ थांरै खन्नै
एक नीं आवै
आखर तो म्हे सिखावां
टाबर पढण जोग बणावां
थे तो कोरा
ठाट अर जस लूटो
दो घंटा पढाओ
अर ऊमर भर री कूटो
कीं तो सरम करो
म्हांरा पढायोड़ा
प्रोफेसर अर डीन बणै
पछै म्हां माथै ई तणैं !

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...
इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.