कागद राजस्थानी

बुधवार, 24 अक्तूबर 2012

*चिँतया*

()

म्हारै घरआळी
चिँत्या करती बोली
थानै जे
साग नीँ भावै तो
पापड़ तळदयूं !
म्हैँ बोल्यो-
तूं ऊंधा काम
मत करिया कर
म्हनै तो रोज ई तळै
बापड़ै पापड़ नै तो
बख्स दिया कर !

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...
इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.