कागद राजस्थानी

बुधवार, 10 अक्तूबर 2012

OOO ओ म्हारो गांव है OOO


ओज्यूं पींपळ री छांव है
मघली-जगली नांव है
बूक हथाळ्यां ठांव है
हां जी, ओ म्हारो गांव है !

जद दिन बिसूंजै
जगै दीया
चांद रै चानणै
टींगर खेलै दडी़ गेडिया ।
बिजळी रै खम्बां
भैंस बंधै
तारां री बणै तण्यां
बिजळी रो खाली नांव है
हां जी, ओ म्हारो गांव है !

करसां बोवै
साऊ खावै
बापू रै नारां रो
गांव में खाली नांव है
बिजळी कड़कै
ठंड पडै़
करसां खसै खेत में
खातां में ज़मींदार रो नांव है
हां जी, ओ म्हारो गांव है !

अंगूठां री नीं सूकी स्याई
मघली जाई
जगली परणाई
मा गैणां रख रिपिया ल्याई
साऊकार री बै’यां में
म्हारी सगळी पीढी रो नांव है
गांव सगळो पड्यो अडाणै
बैंकां रो खाली नांव है
हां जी, ओ म्हारो गांव है !

क-मानै करज़ो
ख-खेतां खसणो
ग=गरीबी
घ-घरहीण
इस्सी बरखडी़
गांव री चौपाळ है
पांच सूं पच्चीस रा टींगर
खेतां-रो’यां चरावै लरडी़
माठर फ़िरै सै’र में
गांव में स्कूल रो खाली नांव है
हां जी, ओ म्हारो गांव है !

अणखावणां-अणभावणां
बणै नेता बोटां रै ताण
ठग ठाकर है म्हारा
गेडी रै ताण
अडाणै री कहाणी कै 
खेत दबाणै री बाणी दै
घेंटी मोस बोट नखावै
जीत परा फ़ेर ढोल बजावै
लोकराज रो खाली नांव है
हां जी, ओ म्हारो गांव है !

अंटी ढील्ली
खेत पाधरो
अंटी काठी
खेत धोरां पर
अळगो-आंतरो
मंतरी री सुपारसां
खेत मिलै सांतरो
खेत-खतोन्यां
हक-हकूतां
ज़मींदार रै हाथ में
गांव बापडो़ फ़िरै गूंग में
चारूं कूंटां पटवारी रो दांव है
हां जी, ओ म्हारो गांव है !

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...
इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.