कागद राजस्थानी

रविवार, 2 जून 2013

*काळजो मत छोड*

तावड़ो देख
काळजो मत छोड
च्यार दिनां में देखी
बादळिया आसी
उतराधै सूं
हड़हड़ करता
ओ तावड़ियो भाजसी
देखी दड़ांछंट
खुर-खोज ई नीं लाधैला
धरती रै ओळैदोळै
भळै इण तावड़ै रा !

आव
इत्तै आपां
रूंख बंचावां
बादळां रो माजणों
ऐ ई मारसी
बळबळतै तावड़ै में
जीव-जूण तारसी
पकड़ झींटा
बादळां नै देखी
रूंख ई उतारसी !

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...
इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.