कागद राजस्थानी

रविवार, 2 जून 2013

*सुणल्यो डंकै चोट*

जातरां ढूंढै बोटड़ा ,  बैठण  कुरसी राज । 
कोई बोलै सन्देसड़ा , कोई कथै सुराज ।।
गरमी  भारी कोझकी , भूंडा  बेजां  हाल ।
कीं  बोटां रै  कारणै ,  नेता  बाळै  खाल ।।
खेत  खळां  नै  छोडगै , घूमो नेता  लार ।
नेता कुण रो बापजी, मत ना खाओ मार ।।
धरती कोनीं कामड़ा, भाषण है अणथाग ।
कुण जाणै कुण थामसी, भाषण आळी आग ।।
कोई बोलै कर दियो , देखो कित्तो विकास ।
कोई सित्यानास कथै, कियां करां बिसवास ।।
ना भाषा  है न पाणीं , ना  बोलण में सार ।
भाषा सुण सुण ओपरी , डूब्या काळी धार ।।
बोटज मांगो मोकळा, बैठो जातरा रथ ।
भाषा देवो बापजी, मत ना करो अनरथ ।।
म्हे देवांला ऐसकै , भाषा  खातर बोट ।।
बोलै  गूंगा भोळिया . सुणल्यो  डंकै चोट ।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...
इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.