कागद राजस्थानी

रविवार, 2 जून 2013

थूं मुळकती रैईजे

फोटू में थांरी
ओळ बसै
थांरै देस री
देस रै वेस री
सांची पूछै तो
थांरै परिवेस री !

फोटू में
हरमेस थूं
मुळकती रैईजे
थांरै मुंडै री उदासी
थांरै घर
गांव अर देस री
निबळाई में भिळी
उदासी बखाणैला !

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...
इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.