कागद राजस्थानी

गुरुवार, 6 जून 2013

** डांखळा **


[१]

मिनखां दाईं खेलस्यां आपां किरकेट अभी रुकॊ ।
ऊंदरा बोल्या टोस करो ऊपर उछाळो सिक्को ।
                         होयो जणां टॊश
                       उड्या बारां होस
मिनकी बोली म्हैं करस्यूं फ़ैसलो थोडा़ सा रुको ॥

[२]

म्हैं तो खेलूं कोनी जे एम्पायर है बिल्ली ।
ऊंदरो बोल्यो ऊंदरी सूं राफ़ां कर’र ढिल्ली ।
                 म्हनै तो लागै गप
                 कोनी कोई वर्डकप
आपणी आलागी धोकल्यो लाडी बजरंगबली ॥

[३]

क्रिकेट खेलण लाग्या मिल परा ऊंदरां ।
वर्ड कप राख लियो पार जाय समुंदरां ॥
           पड़्यां बिन्यां ई गिली
           आउट दे दिया बिल्ली
पूंछ उठा मैदान छोड भाजग्या जमूंदरा ॥

[४]

आउट क्यूं करियो म्हैं बणाणो हो शतक ।
मैदान सूं निकळ भाजी ऊंदरी बल्लो पटक ॥
                  थारै    ऊंदी जंचगी
                लाडी तूं तो बंचगी
मैदान में तो मिनकी एम्पायर जाती गटक ॥

[५]

किरकेट खेलै ऊंदरो आफ़त ना पूछ ।
हेलमेटियो पै’रै तो स्यामत लेवै मूंछ ।
            छोडै नीं मिनकी इयां
           लुकै तो     लुकै कियां
नीं ढकै तो हिट विकेट कर देवै पूंछ ॥
==========================

हिलमिल होळी खेली      ऊंदरां दिखायो हेत ।
फ़ूल तोड़ ल्याया लाल-लाल जद गया खेत ।
                    रगड़ बणायो रंग
                     सागै    घोटी भंग
मिनकी रै डर सूं पीग्या भांग   रंग समेत ॥

[२]

सिर हो मोटो पण   पतळी ही कड़तू ।
ब्या होयो नीं अर कुंआरो रै’ग्यो पड़तू।
           बुडापै में लाग्यो नाको
           बोल्यो ऊंचो कर बाको
देखता रै’ईयो अब बांध देस्यूं भड़तू ॥

[३]

नरेगा रै कारड़ में चिपकावणी ही फ़ोटू !
मोटी जोडा़यत साथै कोड में बैठ्यो कोटू ।
           फ़ोटोग्राफ़र गिण्या तीन
           कैमरै में आयो नीं सीन
बो बोल्यो बाबै नै भेज तूं उठज्या छोटू ॥

[४]

रीसां में बोल्यो ऐक दिन खेमलो खिलाडी़ ।
दारू पीवण नीं देवै रांड आयगी अनाडी़ ।
                    गया नीं    होटल
                    खोली नीं बोतल
इयां तो भूखा ई मरजासी बापडा़ कबाडी ॥

[५]

ऊंदरै भेज्यो ऊंदरी नै        ऐक दिन ई मेल ।
धरती माथै तो है कोनी थारै जिसी फ़िमेल ।
                    ऊंदरी बोली     रुक
                     पै’ली देख फ़ेसबुक
बठै लाधसी  लाडी म्हारै जिसी रेल री रेल ॥

[६]

ऊंदरी बोली कार ल्याओ चढूं कोनीं बस में ।
जी घुटै म्हारो     भीड़-भाड़ अर भारी रस में ।
             ऊंदरो बोल्यो धिक्कै कोनीं
              तूं म्हारै अब टिक्कै कोनीं
थारै जिसी तो होवणी चाईजै     सरकस में ॥

[७]

ऊंदरी ही पेट सूं डागधर जी करी सोनोग्राफ़ी ।
पेट में दिख्या बच्चिया अणगिणत अर काफ़ी ।
                       करो ना रीस
                      लेऊं नीं फ़ीस
म्हारै कोनीं इत्ता पालणियां    म्हनै देवो माफ़ी ॥

[८]

देखो जमानै में फ़ैसन      बदळ्या है दस्तूर ।
ऊंदरी बोली ऊंदरै सूं     आपणो काईं कसूर ।
                 देखो टींगर-टींगरी
                  फ़ैसन में फ़ींगरी
हाथै फ़ाड़-फ़ाड़ पै’रै आपरा पै’रण आळा पूर ॥

[९]

ऊंदरो बोल्यो ऊंदरी सूं      सुणै है काईं स्याणी ।
आज तो लड़ मरिया आपणां सेठ अर सेठाणी ॥
                      बात कोनीं छोटी
                        पकै कोनी रोटी
ऊंदरी बोली डरो ना होटल सू आसी रासण पाणी ॥

[१०]

ऊंदरी जाम्यो ऊंदरो  ऐक सकल मिलै बिल्ली सूं ।
काईं बतावै दाई ऊंदरै रो फ़ोन आयो दिल्ली सूं ।
                   सतगुरू तेरी ओट है
                  ऊंदरी में तो खोट है
लाई ऊंदरो कींयां बचसी जग में उडती खिल्ली सूं ॥

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...
इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.