कागद राजस्थानी

गुरुवार, 20 जून 2013

कविता

कविता बिलखै आज, जग नीं सुधरै भायला । 
कांई सोच करिया, कागद काळा ओमिया ।।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...
इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.