कागद राजस्थानी

शुक्रवार, 21 जून 2013

. भूख

.
भूख हुवै तो
भूखा छोडै कोनीं 
डूंगरां रो भाठो
धाप्योड़ा नै
रोटी खावण में ई
दीखै भोत घाटो 

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...
इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.