कागद राजस्थानी

रविवार, 2 जून 2013

माळा रा मिणियां

माळा रा मिणियां
घिसग्या फेरतां-फेरतां
ना सुख मिल्यो
ना परमेसर
जोड़ायत ही स्यांति
बा ई सो बरस करगी
अब बाबो जी बण्यां
घाटो ई घाटो
कुण घालै 
डैण नै आटो
छेकड़ बणग्यो डैण
खुद परमेसर
बतावै तो कोनीं
पण सोचै तो है
अब पकड़ी है
असली लैण !

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...
इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.