कागद राजस्थानी

रविवार, 2 जून 2013

*काचर-काकड़ी री कुचरणीं *

काकड़ी बोली काचर सूं
थूं बेजां बेईमान है रे
अळसीड़ा काचरिया
पेट में इस्यो बीज राखै
जको मणां दूध 
फाड़ देवै
इणीं खातर थंन्नै
खेत में कोई नीं बीजै
थांरी बेल मतै ई ऊगै
अर थूं मतै ई लागै
थंन्नै छोल-छोल
लुगायां माळा में बींध
काचरी बणा लटकावै
थूं तो जद टिकै !

काचर बोल्यो
रैवण दे ऐ
बिन्यां काकै री काकड़ी
थूं कांईं घाट है
थूं तो जाबक ई
बावळी टाट है
थंन्नै जे कोई कोरी
खाली पेट खावै तो
बुखार चढ जावै
अर बो मांचो झाल लेवै
इणीज कारण
थांरै माथै लोगड़ा
लूण मिरच बुरकावै
जद थूं थांरो
सुवाद बतावै
थूं बा ई है नीं
जिण रै कारण
बापड़ी काकी रै
लात पड़ी
अर डरती गाया गीत !

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...
इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.