कागद राजस्थानी

शुक्रवार, 21 जून 2013

*अजादी री कुचरणीँ*


1.
हाल
घूंघट काढै दादी
कठै है अजादी ?
2.
कोई सासू
हाल नीँ देवै
भू नै अजादी !
3.
थकां जीन्स
नेतावां नै
पै'रणीं पड़ै खादी
कठै है अजादी ?

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...
इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.