कागद राजस्थानी

रविवार, 2 जून 2013

गांव

गांव तो फगत नांव है
बाकी तो बै ई
सै'र आळा दांव है ।

सै'र में ऐतबार कोनीं
गांव में बार कोनीं
ठेका पण इकसार है
ठेका दारु रा
ठेका काम रा
पण
एक दूसरै रै
सुख-दुख रो ठेको
कोई नीं लेवै ।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...
इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.